For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

सिनेमा का चेहरा-मोहरा बदल रहा है आेटीटी

08:43 AM Jun 15, 2024 IST
सिनेमा का चेहरा मोहरा बदल रहा है आेटीटी
-सभी फोटो लेखक
Advertisement

हेमंत पाल
कोरोना काल के बाद मनोरंजन का चेहरा काफी कुछ बदल गया। महामारी के कारण जब सारे सिनेमाघर बंद कर दिए गए थे, उस दौर में दर्शकों की मनोरंजन की कमी ओटीटी प्लेटफॉर्म ने पूरी की। करीब डेढ़ साल तक इसी माध्यम से दर्शकों ने कई घंटों तक दिल बहलाया। कोरोना काल ख़त्म हुआ और सिनेमा घरों के दरवाजे खुले, फिल्मों का पुराना दौर लौट आया, फिर भी दर्शकों का ओटीटी का मोह ख़त्म नहीं हुआ। अब ओटीटी ने भी अपना स्तर फिल्मों की तरह सुधार लिया, कुछ मामलों में तो फिल्मों से बेहतर हो गया। एक तरह से फिल्म इंडस्ट्री भी ओटीटी के शरणागत हो गयी।
एक समय था जब फिल्मों में प्रतिभा होने के बावजूद नए कलाकारों को बड़ी मुश्किल से मौका मिलता रहा। लेकिन, अब ओटीटी ऐसे कई नए कलाकारों को अपनी अदाकारी दिखाने का जरिया बना। इनमें कई ऐसे चेहरे भी हैं, जिन्हें फिल्मकारों ने नकार दिया था, पर आज वे ओटीटी के सितारे हैं।
छोटे कलाकार जो ओटीटी पर सितारे बने
जयदीप अहलावत आज ओटीटी प्लेटफॉर्म पर आने वाली वेब सीरीज के बड़े कलाकार हैं। पर, एक समय वे फिल्मों में छोटे-मोटे रोल तक सीमित थे जैसे अक्षय कुमार की फिल्म ‘खट्टा मीठा’ और आलिया भट्ट की ‘राज़ी’ में। लेकिन, ‘पाताल लोक’ वेब सीरीज में उनकी उम्दा अदाकारी ने उन्हें दर्शकों की आंखों में ला दिया। ऐसे ही एक कलाकार हैं प्रतीक गांधी जिन्होंने हर्षद मेहता पर बनी वेब सीरीज ‘1992 : द स्कैम’ में लीड रोल किया और देखने वालों के दिल पर छा गए। जबकि, इससे पहले वे गुजराती फिल्मों, थिएटर तक सीमित थे।
जो ओटीटी पर हिट उन्हें सिनेमा में भी काम
‘मिर्ज़ापुर’ जैसी हिट वेब सीरीज़ में निगेटिव लीड रोल निभाने वाले दिव्येंदु शर्मा को ‘बत्ती गुल मीटर चालू’ में श्रद्धा कपूर के साथ रोमांस करने का मौका इसीलिए मिला कि उन्होंने ‘मिर्जापुर’ मुन्ना भैया के किरदार से नाम कमाया। फिल्म इंडस्ट्री में विक्रांत मेसी दस साल तक छोटे-छोटे किरदार निभाते रहे। लेकिन, जब वे ‘मिर्ज़ापुर’ वेब सीरीज़ में बबलू और ‘क्रिमिनल जस्टिस’ में आदित्य बने तो दर्शकों ने उनकी अदाकारी का लोहा माना। मानवी गगरू ने ‘नो वन किल्ड जेसिका’, ‘आमरस’ में और ‘पीके’ में भी सपोर्टिंग रोल किए। किंतु, दर्शकों ने ‘ट्रिपलिंग’ में मानवी को देखा तो एक्टिंग को सराहा। उन्हें ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’जैसी फिल्मों में लीड रोल मिले।
वेब सीरीज ‘फर्जी’ में अपराध की दुनिया में शाहिद कपूर के पार्टनर बने भुवन अरोड़ा ने फ़िरोज़ की भूमिका में अपने काम से दर्शकों को प्रभावित किया। यह सर्वाधिक स्ट्रीमिंग वेब सीरीज में है। टीवी सीरियल में करण टॅकर जाना-माना नाम थे। लेकिन, उनके करियर में मोड़ आया नीरज पांडे के ‘स्पेशल ऑप्स’ से।
नाम से नहीं जानते, पर चेहरा बना चहेता
वेब सीरीज ‘क्लास’ में नीरज की भूमिका में गुरफतेह सिंह पीरजादा ने अपनी अलग छाप छोड़ी। गुरफतेह सिंह पीरजादा को दर्शकों ने पहले ‘ब्रह्मास्त्र’ और ‘गिल्टी’ में भी देखा था। लेकिन ‘क्लास’ में गंभीर प्रदर्शन से अलग पहचान बनाई। वेब सीरीज ‘जुबली’ ने नए सितारे सिद्धांत गुप्ता को जन्म दिया। थिएटर से आने वाले जिम सर्भ ने फिल्म और ओटीटी समेत सभी माध्यमों पर अपनी छाप छोड़ी। इसके अलावा ‘पद्मावत’ और ‘मेड इन हेवन’ जैसी फिल्मों में भी अच्छा काम किया। ये वो कलाकार हैं जिन्हें दर्शक जानते हैं।
फिल्म इंडस्ट्री भी समा गई ओटीटी में
जब टीवी आया, तब भी मनोरंजन की दुनिया में इतना बड़ा बदलाव नहीं आया था, जो ओटीटी लाया। बड़े परदे के नामी सितारों ने भी ओटीटी में हिस्सेदारी ढूंढ ली। सीरीज निर्माण में भी सितारे और फ़िल्मकार उतर आए। संजय लीला भंसाली के बाद अब फिल्म इंडस्ट्री में कोई बड़ा डायरेक्टर नहीं बचा, जो ओटीटी में नहीं आया! अब दर्शक घर में बैठकर मनोरंजन करना पसंद करने लगे। बॉबी देओल, नसीरुद्दीन शाह, अरशद वारसी, काजोल और अभिषेक बच्चन जैसे कई कलाकारों ने ओटीटी पर डेब्यू किया। रवीना टंडन का ओटीटी डेब्यू ‘आरण्यक’ से हुआ।
बड़े सितारों का दंभ भी टूटा
अजय देवगन की रूद्र, रवीना टंडन की आरण्यक, माधुरी की ‘फेम गेम’ और सुष्मिता सेन की आर्या-1 और आर्या-2 ने इन्हें नई दुनिया का रास्ता दिखा दिया। अजय देवगन ‘रुद्र : द एज ऑफ डार्कनेस’ की रिलीज के साथ अपना ओटीटी डेब्यू करने वाले हैं। उनके साथ ईशा देओल भी हैं। माधुरी भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर आ चुकी हैं। वेब शो ‘फाइंडिंग अनामिका’ से उन्होंने ओटीटी पर डेब्यू किया। सोनाक्षी सिन्हा ने ‘फॉलन’ सीरीज से अपना ओटीटी डेब्यू किया। शाहिद कपूर ने ‘फर्जी’ से ओटीटी पर कमाल दिखाया। अनिल कपूर ने ‘द नाइट मैनेजर’ से इस माध्यम को अपनाया।
सिनेमा में भी चले और यहां भी
मनोज बाजपेयी ने ऐसे किरदार निभाए, जिनकी एक अच्छे कलाकार के तौर पर तारीफ की गई। उनकी वेब सीरीज ‘द फैमिली मैन’ सीरीज ने उन्हें ओटीटी का बड़ा स्टार बना दिया। द फैमिली मैन, रे, गुलमोहर और ‘बंदा’ जैसे शो उनकी प्रतिभा का प्रतीक है। ‘सेक्रेड गेम्स’ से सैफ अली खान ने ओटीटी पर डेब्यू किया। वहीं काजोल ने ड्रामा सीरीज़ ‘द ट्रायल’ में अपने प्रदर्शन और ‘लस्ट स्टोरीज़-2’ में अपनी भूमिका के साथ ओटीटी में भी कदम रखा। पंकज त्रिपाठी को मिर्जापुर, सेक्रेड गेम्स और ‘क्रिमिनल जस्टिस’ जैसी वेब सीरीज़ में उनकी भूमिकाओं ने पहचान दिलाई। कियारा आडवाणी ने ‘लस्ट स्टोरीज़’ से ओटीटी पर नाम कमाया।
जो फिल्मों में नहीं चले वे यहां हिट
फिल्म इंडस्ट्री में कई कलाकार ऐसे हैं, जिनका सितारा बहुत कम वक्त के लिए ही चमका। बॉबी देओल ऐसे ही कलाकार हैं। पर, ओटीटी पर बॉबी की ‘आश्रम’ सीरीज ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए। ऐसे ही अभिषेक बच्चन ने बॉब बिस्वास, दसवीं और ‘द बिग बुल’ जैसी फिल्मों से अपनी अलग पहचान बनाई है। जैकलीन फर्नांडिस ने ‘मिसेस सीरियल किलर’ से कमाल किया। अभी आगे देखना है कि ओटीटी मनोरंजन की दुनिया में कहां-कहां अपना जादू चलाता है। -सभी फोटो लेखक

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×