For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

लाखों श्रद्धालु पहुंचे मठ, धूनी रमाए बैठे रहे बाबा

11:00 AM Mar 18, 2024 IST
लाखों श्रद्धालु पहुंचे मठ  धूनी रमाए बैठे रहे बाबा
Advertisement

रोहतक, 17 मार्च (हप्र)
आठवीं शताब्दी से अध्यात्म, शिक्षा, चिकित्सा, संस्कृति के अनोखे संगम का केंद्र रहे बाबा मस्तनाथ मठ अस्थल बोहर मेले के दूसरे दिन अष्टमी को बाबा मस्तनाथ जी की समाधि पर सुबह 4 बजे से ही श्रद्धालुओं की कतारें लगनी शुरू हो गईं। महंत बालकनाथ योगी ने भक्तों को सुख समृद्धि का आशीर्वाद दिया। मेले के दूसरे दिन कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष उदयभान व पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा बाबा मस्तनाथ जी की समाधि पर दर्शन करने के लिए पहुंचे।
मठ के महंत बालकनाथ जी योगी मठ की परंपरा के अनुसार गद्दी पर विराजमान हुए और भक्तों को आशीर्वाद दिया। इस विशेष समय पर महंत जी के दर्शन के लिए भक्तों का तांता लगा रहा। श्रद्धालुओं ने मठ परिसर में देशी घी की जोत जलाकर अपने परिवार की समृद्धि के लिए कामना की।
मंदिर में पूजा अर्चना से पूर्व साधु संतों ने धुनें पर भस्म रमाई। यह धुनें के चारों और नाचते गाते हुए संतों ने खुद को भस्म में लपेटा और बाबा के जयकारे लगाते हुए मंदिर में पूजा करने पहुंचे। संतों का भस्म रमाने का यह मनोहारी दृश्य देखने वाले दंग रह गए। बाबा मस्तनाथ मठ अस्थल बोहर की स्थापना परम सिद्ध शिरोमणि चौरंगीनाथ जी महाराज ने आठवीं शताब्दी में की थी।

मठ की बनेगी विश्वपटल पर विशेष पहचान

महंत बालकनाथ जी योगी के सतत प्रयास और बेहतर दिशा निर्देशन में यह मठ एक दिव्य स्वरूप में दिखाई देने लगा है। इस मठ की खास बात यह भी है कि यहां भवन निर्माण का कार्य कभी बंद नहीं होता। कोरोना काल में भी निर्माण कार्य निरंतर चलता रहा। इस विशाल मठ का संपूर्ण निर्माण साठ एकड़ में किया जाएगा अभी केवल समाधि मंदिर का ही कार्य पूरा हुआ है फ्लोरिंग का कार्य चल रहा है। भविष्य में जल्दी ही समस्त प्रकार की उत्तम सुविधाओं से सुसज्जित यह मठ केवल हरियाणा में ही नहीं बल्कि विश्वपटल पर अपनी विशेष पहचान बनाएगा। मेले के दूसरे दिन कपूरी पहाड़ी के महंत बाबा कृष्णनाथ जी, हरिद्वार से महा मंत्री बाबा चेताई नाथ जी, चंडीगढ़ से पहुंचे बाबा रामनाथ जी, महामंडलेश्वर बाबा कपिल पुरी महाराज, सिरसा सांसद सुनीता दुग्गल, साध्वी प्रज्ञा भारती, विधायक बीबी बत्रा आदि दर्शन करने पहुंचे।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×