For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

प्रचंड है ठंड, रजाई से कर लो दोस्ती

06:25 AM Jan 12, 2024 IST
प्रचंड है ठंड  रजाई से कर लो दोस्ती
Advertisement

अंशुमाली रस्तोगी

यकीन मानिए, ठंड पर लिखने के लिए ‘साहस’ चाहिए। हालांकि, यह मुझमें नहीं फिर भी इधर-उधर से ‘साहस’ बटोर-बटार कर लिख रहा हूं। ठंड ने न केवल नाक में दम कर रखा है बल्कि गर्दन को भी किसी लायक नहीं छोड़ा है। ये नाक और गर्दन कभी किसी के आगे झुकती नहीं थीं किंतु आजकल या तो बहती रहती है या मफलर में लिपटी रहती है। बीवी तो कई दफा तंज भी कस चुकी है, ‘तुम लेखकों के पास नाक और गर्दन न हो तो पाठकों को कितना सुकून मिलेगा।’
सुना है, इस बार ठंड ने पिछले कई वर्षों के रिकॉर्ड तोड़ डाले हैं। आलम यह है, मेरी सुबह से लेकर रात तक ‘रजाई’ में ही बीतती है। आजकल मैंने हर जरूरी काम सिर्फ ठंड के कारण छोड़ रखा है। दफ्तर से दो माह की ‘विदआउट वेतन’ छुट्टी ले ली है। दिसम्बर के शुरू से ही नहाने को भी ‘टाटा-टाटा, बाय-बाय’ बोल दिया है। अब या तो दिनभर रजाई में सोता हूं या फिर खाता हूं। हालांकि, बीवी को मेरा यों घर में पड़े रहना बेहद खल रहा है।
और तो और इस भीषण ठंड में मैंने लिखना-पढ़ना भी मुल्तवी कर दिया है। दिमाग को बेवजह ‘अतिरिक्त कष्ट’ देने से क्या फायदा। यों भी, ठंड में मेरे विचार और सोच जम-से जाते हैं। हर रोज लिखना ही है, यह कोई पंडित ने थोड़े ही बताया है। आखिर दिमाग को भी आराम की जरूरत होती है।
वैसे, सर्द मौसम के अपने मजे भी हैं। पूरा शरीर ‘आलस्य का घर’ बन जाता है। किसी काम को करने का मन नहीं करता। वो तो सुबह-सुबह दिशा-पानी के लिए जाना मजबूरी है। रजाई में एक दफा जिस करवट लेट जाओ, फिर करवट बदलने का साहस नहीं होता। इस मौसम में चाय तो अमृत है अमृत। दिनभर में कितनी कप चाय गटक लेता हूं, कुछ ख्याल ही नहीं रहता। अव्वल तो कोई मुझसे मिलने आता नहीं अगर आता भी है तो कहलवा देता हूं कि सो रहा हूं। कौन इतनी सर्दी में गर्म रजाई को छोड़ किसी की आवभगत करने जाए।
बहरहाल, नहाने के मसले पर बीवी से झें-झें हो ही जाती है। वो चाहती है कि मैं ठंड में भी हर रोज नहाऊं। मगर मैं इस ‘संघर्ष’ से बचना चाहता हूं। खामख्वाह अपने शरीर को कष्ट नहीं देना चाहता। पानी कितना भी गर्म क्यों न हो ठंड तो आखिर ठंड है, कहीं से भी जकड़ सकती है। टकराव से बचने के लिए गुसलखाने में जाकर ‘प्रतीकात्मक’ तौर पर पानी उड़ेल आता हूं। मैं चाहता हूं, ठंड अभी और पड़े। इससे भी तगड़ी पड़े। एक के बजाय मुझे दो रजाई से काम चलाना पड़े।
मैं तो हर किसी से यह कहता हूं कि ठंड है तो इसके पूरे मजे लीजिए न। देश-दुनिया की फिक्र करने के लिए पूरी जिंदगी पड़ी है। इतने सालों के बाद तो ऐसी भीषण मगर दिलकश ठंड पड़ी है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×