For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

आपकी राय

07:09 AM Jan 30, 2024 IST
आपकी राय
Advertisement

मौलिक कर्तव्य जरूरी

हमारा देश दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। यहां हर धर्म के लोगों को एक समान मौलिक अधिकार और कर्तव्य मिले हैं। 26 जनवरी, गणतंत्र दिवस पर हम सोशल साइट्स पर एक-दूसरे को बधाई देते हैं। राजनेता इस मौके पर संविधान की मान-मर्यादा रखने के लिए बहुत बड़ी बड़ी बातें करते हैं। लेकिन बहुत से लोग संविधान में मौलिक कर्तव्यों की पालना नहीं करते। ऐसे में देश कैसे आत्मनिर्भर बन पाएगा?
राजेश कुमार चौहान, जालंधर

राम के आदर्श अपनाएं

बाईस जनवरी को अयोध्या में रामलला के विराजमान होने से चारों ओर रामभक्तों में उल्लास है। हमारे बुजुर्गों ने आतताइयों द्वारा मंदिर टूटते हुए देखा। आज हमारा सौभाग्य है कि राम मंदिर के निर्माण से लेकर प्राण-प्रतिष्ठा तक हमारे सामने हुई। पूरे देश ने इस अवसर पर दिवाली मनाई। अब हमें भी राम के आदर्शों एवं उनके चरित्र का अनुसरण करने की जरूरत है।
मुकेश विग, सोलन

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×