For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

आपकी राय

06:32 AM Nov 10, 2023 IST
आपकी राय
Advertisement

गरीबी का दंश

बिहार जातिवार जनगणना के आर्थिक सर्वेक्षण के अनुसार बिहार में गरीबी हद से ज्यादा है। यह बेहद शर्मिंदा करने वाले आंकड़े हैं। आजादी के सात दशक बाद भी देश की बहुत बड़ी आबादी को गरीबी से निकाल पाने में असमर्थ रहे हैं। नि:संदेह केंद्र-राज्य सरकार की नीतियां गरीबी उन्मूलन के अनुकूल नहीं बन पाई हैं या इनको प्रभावी ढंग से लागू नहीं किया गया है। गरीबी का दानव भारत की आबादी पर भारी पड़ा है। आखिर छह हजार कमाने वाली 40 फीसदी आबादी क्या अच्छी शिक्षा प्राप्त कर सकती है? क्या ये परिवार न्यूट्रीशन फूड लेने में समर्थ होंगे। गंभीरता को समझना होगा।
वीरेंद्र कुमार जाटव, दिल्ली

आबादी का बोझ

आज बढ़ती जनसंख्या एक बड़ी समस्या है जो दुनियाभर में देखा जा रहा है। इसके कारण अनेक समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं, जैसे आवास, स्वास्थ्य और शिक्षा की कमी। सरकारें और समाज को इस मुद्दे को समझकर जनसंख्या नियंत्रण और गरीबी के समाधान पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। शिक्षा, स्वास्थ्य सुविधाएं और निर्माण क्षेत्र में रोजगार के अवसरों को बढ़ाने के लिए कदम उठाने चाहिए। जनसंख्या के प्रबंधन में जनसंख्या शिक्षा, गर्भनिरोधक उपाय और महिलाओं के अधिकारों का सम्मान महत्वपूर्ण हैं।
संदीप कौर, पीयू, चंडीगढ़

Advertisement

मुफ्त का अनाज

अगले पांच वर्षों के लिए मुफ्त खाद्यान्न योजना का विस्तार करने का केंद्र सरकार का कदम स्वागतयोग्य है। दूसरी ओर, जिस तरह से नवीनतम कदम को लागू करने की कोशिश की जा रही है, उससे कई सवाल उठते हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि इसका उद्देश्य मतदाताओं को प्रभावित करना और राजनीतिक लाभ प्राप्त करना है। हालांकि, केंद्र और राज्यों को सार्वजनिक वितरण प्रणाली में लीकेज को खत्म करना सुनिश्चित करना चाहिए ताकि विस्तार का लाभ योग्य लोगों तक पहुंच सके।
मोहम्मद तौकीर, पश्चिमी चंपारण

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×