For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

सात अवैध काॅलोनियों पर चला पीला पंजा

08:42 AM May 04, 2024 IST
सात अवैध काॅलोनियों पर चला पीला पंजा
गुरुग्राम में शुक्रवार को अवैध कॉलोनी में निर्माणाधीन मकान गिराती जेसीबी। - हप्र
Advertisement

गुरुग्राम, 3 मई (हप्र)
सोहना क्षेत्र के भोंडसी और अलीपुर गांव में 16 एकड़ कृषि भूमि पर अवैध रूप से काटी जा रही सात काॅलोनियों में शुक्रवार को जेसीबी चलाकर स्ट्रक्चर गिराये गये। यह कार्रवाई टाउन एंड कंट्री प्लानिंग के डिस्टि्रक्ट टाउन प्लानर इन्फोर्समेंट (डीटीपीई) की तरफ से की गयी। डीटीपी इन्फोर्समेंट मनीष यादव के नेतृत्व में अभियान चलाया गया। इस दौरान विभाग के एटीपी दिनेश सिंह बतौर ड्यूटी मजिस्ट्रेट मौजूद रहे।
डीटीपी इन्फोर्समेंट के अनुसार, हरियाणा अर्बन डेवलपमेंट एक्ट के तहत कृषि भूमि पर बिना टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग से लाइसेंस लिए काॅलोनी काटना अवैध और नियमों के विरुद्ध है। इन्फोर्समेंट टीम की तरफ से गुरुग्राम के आउटर एरिया, सोहना, पटौदी, मानेसर, फरुखनगर के आसपास अवैध रूप से काटी जा रही काॅलोनियों पर लगातार कार्रवाई की जा रही है।
इसी कड़ी में टीम शुक्रवार को सोहना के अलीपुर इलाके में पहुंची, जहां करीब सात एकड़ के फार्महाउस में दो अवैध काॅलोनियां काटी जा रहीं थी। यहां टीम ने 300 मीटर इंटरलॉकिंग टाइलों के रोड और 200 मीटर के अन्य रोड नेटवर्क को ध्वस्त कर दिया। इसके बाद टीम भोंडसी गांव पहुंची, जहां करीब पांच एकड़ में दो अवैध काॅलोनियां बसाई जा रहीं थी। यहां पांच डीपीसी, 300 मीटर इंटरलॉकिंग टाइल के रोड और 150 मीटर के अन्य रोड नेटवर्क को जेसीबी ने उखाड़ा। इसके बाद टीम ने मारुति कुंज का रुख किया, जहां लगभग साढ़े नौ एकड़ में एक निर्माणाधीन मकान, प्लाॅट की चारदीवारी समेत काॅलोनी के रोड नेटवर्क को तोड़ा गया। इसके बाद भोंडसी स्थित मयूर विहार में साढ़े तीन एकड़ में कट रही अवैध काॅलोनी में दस डीपीसी और एक निर्माणाधीन मकान को गिराया गया।

सोहना और भोंडसी में की गयी कार्रवाई

इन काॅलोनियों को शुरुआती स्तर पर ही चिन्हित कर लिया गया था। नोटिस और अन्य कागजी प्रक्रिया पूरी करने के बाद तोड़फोड़ कार्रवाई की गई। इस दौरान मौजूद रहे लोगों से अपील की गयी कि अवैध काॅलोनियों में अपनी जमापूंजी निवेश न करें। किसी भी प्रकार की खरीद-फरोख्त से पहले डीटीपीई कार्यालय से जानकारी प्राप्त करें।
- मनीष यादव, डीटीपी इन्फोर्समेंट

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×