For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

कुश्ती देश का परंपरागत खेल : अशोक खुराना

09:09 AM Mar 11, 2024 IST
कुश्ती देश का परंपरागत खेल   अशोक खुराना
करनाल में रविवार को पूर्व शहरी जिलाध्यक्ष अशोक खुराना को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित करते हुए। -हप्र
Advertisement

करनाल, 10 मार्च (हप्र)
कुश्ती के जाने माने खिलाड़ी स्वर्गीय पवन पहलवान की याद में श्री राम लीला मैदान में 14 वां इंटरनैशनल कुश्ती दंगल का आयोजन किया गया। जिसमें असपास के साथ प्रदेश और देश के विभिन्न राज्यों से आए बड़े पहलवानों ने भाग लिया। दंगल देखने के लिए हजारों की भीड़ उमड़ पड़ी। इसमें रौचक कुश्ती के मुकाबले हुए। पहलवानों ने अखाड़े में दम खम दिखाया। दंगल में मुख्य अतिथि शहर जिला कांग्रेस के पूर्व प्रधान अशोक खुराना पहुंचे। उन्होंने पहलवानों से परिचय प्राप्त किया, विजेताओं को पुरस्कृत किया। इस अवसर पर शिव जी की प्रतिमा के साथ पवन पहलवान की तस्वीर पर अतिथियों ने माल्यार्पण किया।
जिला कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक खुराना ने कहा कि खेलों से आपसी भाई चारा मजबूत होता है। कुश्ती देश का परंपरागत खेल है। कुश्ती के माध्यम से शरीर मजबूत होता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने शुरू से ही खेलों को महत्व दिया है। कांग्रेस के राज में खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी दी जाती थी। कांग्रेस राज आने पर प्रदेश में पदक लाओ नौकरी पाओ की नीति लागू की जाएगी। इससे पहले उनके पहुंचने पर खुराना का कार्यक्रम के आयोजकों, पहलवान रमेश संधु, पहलवान रमेश कश्यप, मलिक पहलवान ने स्वागत किया। उन्होंने उत्तर प्रदेश के पहलवान जावेद गुर्जर और खरखोदा के पहलवान उमेश का परिचय प्राप्त किया। उनके साथ काछवा के पूर्व सरपंच चंद्रमणि नारंग, अंग्रेज सिंह, गुरमीत सिंह, विजय कुमार, टक्कर, नाथी राम कश्यप, तेजेंद्र सिंह डिम्पी आदि उपस्थित थे।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×