For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

नहीं हुआ काम,‘अमृत सरोवर योजना’ के तालाब में छोड़नी पड़ी मछलियां

09:26 AM Jun 11, 2024 IST
नहीं हुआ काम ‘अमृत सरोवर योजना’ के तालाब में छोड़नी पड़ी मछलियां
Advertisement

रामकुमार तुसीर
सफीदों, 10 जून
हरियाणा सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना के तहत सफीदों के पाजूकलां गांव में तालाब के विकास का काम खुदाई के बाद पिछले 3 वर्ष से बंद पड़ा है। लोग परेशान हैं उन्हें बताया नहीं जा रहा है कि उनके गांव के तालाब का अधूरा काम कब पूरा होगा और इस परियोजना में क्या-क्या किया जाएगा। वर्ष 2018 में हरियाणा पोंड्स एंड वेस्ट मैनेजमेंट अथॉरिटी एक्ट पास हुआ था जिसके तहत तालाबों के विकास एवं सौंदर्यीकरण ‘अमृत सरोवर योजना’ सरकार ने हाथ में ली थी। इस योजना के तहत तत्कालीन मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने प्रदेश में 14 हजार तालाबों का विकास करने का लक्ष्य निर्धारित किया था। इन्हीं में एक परियोजना सफीदों के पाजू कलां गांव के साढे छह एकड़ रकबे के तालाब के लिए तैयार की गई। करीब 65 लाख रुपये का बजट पास हुआ और तालाब की गहरी खुदाई करके इसे छोड़ दिया गया। विभागीय अधिकारियों के अनुसार कारण यह रहा कि पूरे काम का बजट उपलब्ध नहीं था। अब एक विभागीय अधिकारी ने बताया कि 7 माह पहले इस परियोजना का एस्टीमेट रिवाइज कर 1.60 करोड़ का भेजा गया था जो अभी तक मंजूर होकर नहीं आया है। अधिकारी ने बताया कि इसमें पाइपलाइन बिछाई जानी है और तालाब के बीच में व चारों तरफ ट्रैक का निर्माण किया जाना है। संबन्धित अधिकारियों को अब उम्मीद है कि जल्दी एस्टीमेट मंजूर होगा और काम शुरू किया जायेगा। अधिकारी कहते हैं कि इस परियोजना में शौचालयों की गंदगी के पानी को ‘वेटलैंड’ प्रणाली से साफ कर सिंचाई के योग्य बनाया जाएगा। बता दें कि ‘सांसद ग्राम योजना’ के तहत इस गांव को निवर्तमान सांसद रमेश कौशिक ने गोद लिया हुआ था। सरपंच ने बताया कि सांसद निधि से स्वीकृत बारात घर के निर्माण का काम शुरू नहीं किया गया है और न ही 3 वर्ष पहले मुख्यमंत्री द्वारा स्वीकृत व्यायाम शाला की परियोजना की कोई सुध ले रहा है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×