For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

अभिव्यक्ति की आजादी बचाने को आगे आए महिला शक्ति : आशा हुड्डा

07:49 AM Mar 30, 2024 IST
अभिव्यक्ति की आजादी बचाने को आगे आए महिला शक्ति   आशा हुड्डा
रोहतक के मातूराम सामुदायिक केंद्र में विभिन्न संगठनों द्वारा आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित करतीं आशा हुड्डा। -हप्र
Advertisement

रोहतक, 29 मार्च (हप्र/निस)
स्थानीय मातूराम सामुदायिक केंद्र में ‘मैं भी रानी चेन्नम्मा हूं’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में पहुंची पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की धर्मपत्नी आशा हुड्डा ने कहा कि हमारे संविधान, समानता के अधिकार और अभिव्यक्ति की आजादी को बचाने के लिए देश की आधी आबादी को आगे आना होगा। मौजूदा सरकार संवैधानिक संस्थाओं को खत्म करके भारतीय नागरिकों को मिले अधिकारों को छीनना चाहती है। हमारे जीवन के हर पहलू में हमारे अधिकारों को कमजोर कर दिया गया है। हमारी संसद और हमारी न्यायपालिका को कमजोर कर दिया गया है। हमारे सामाजिक ताने-बाने का ताना-बाना छिन्न-भिन्न हो गया; हमारी अर्थव्यवस्था चौपट हो गई। आशा हुड्डा ने कहा कि भारत माता ने रानी चेन्नम्मा, महारानी लक्ष्मीबाई से लेकर इंदिरा गांधी और कल्पना चावला जैसी महिलाओं को जन्म दिया है। हर मौके और हरेक मोर्चे पर महिलाओं ने साबित किया है कि वो किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं है। कार्यक्रम का आयोजन अखिल भारतीय दलित महिला अधिकार मंच, ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक वूमेन्स संगठन (अनहद), भारत ज्ञान विज्ञान समिति, भारतीय किसान यूनियन, छात्र एकता मंच, सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियंस, दिशा छात्र संगठन, हरियाणा ज्ञान विज्ञान समिति, महिला कांग्रेस, मेवात विकास सभा, नागरिक मंच, स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया द्वारा संयुक्त रूप से किया गया था। डॉ. आरएस दहिया ने धन्यवाद ज्ञापन और समापन भाषण दिया। अध्यक्ष मंडल में डॉ. संतोष मुदगिल, निर्मल बल्हारा धनपति हुडा, कविता शर्मा, डॉ. रणबीर सिंह दहिया, सुश्री वीना मलिक, राजबीर बजाड़, उषा सरोहा, लाभ सिंह हुड्डा, भावना शर्मा, अंजलि भारद्वाज, कविता कृष्णन, डॉ. जगमति सांगवान, ऋचा चिंतन, शबनम हाशमी और प्रमोद गौरी आदि मौजूद थे। कार्यक्रम में पूरे हरियाणा से करीब 600 महिलाओं ने भाग लिया।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×