For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

उत्तरांचल में जोड़ियां बनाने का बेजोड़ मंच

07:33 PM Feb 11, 2024 IST
उत्तरांचल में जोड़ियां बनाने का बेजोड़ मंच
Advertisement

देहरादून/हल्द्वानी : यूं तो रिश्तों के मामले में अनेक संस्थाएं खुद के बेहतर होने का दावा करती हैं, लेकिन धर्मार्थ भी कुछ संस्थाएं हैं जो ऐसे पुनीत कार्यों को करती हैं। कोई संस्था जोड़ों को मिलाने का काम करती हैं। वह भी नि:शुल्क। उत्तरांचल में ऐसी ही एक संस्था है। नाम उत्तरांचल विवाह मंच। इस मंच के पदाधिकारियों का दावा है कि उनका यह मंच बेजोड़ है। उनकी पंचलाइन भी है 13,000 से ज्यादा गढ़वाली कुमाउंनी वर वधू के रिश्ते का निःशुल्क वैवाहिक सेवा कार्य।
इस मंच से जुड़े पदाधिकारियों से जब पूछा गया कि उत्तरांचल में भी क्या ऐसे मंचों की जरूरत है तो एक ने कहा, 'एक समय था जब हमारे उत्तरांचली समाज में रिश्तेदारों या जानकारों के माध्यम से ही आसानी से रिश्ते हो जाते थे। किन्तु पहाड़ से पलायन के साथ आपसी जुड़ाव कम होता गया। और आज हम लोगों के लिए अच्छा रिश्ता ढूँढना एक बड़ी समस्या बन गया है। यह समस्या इतनी विकट हो गई है कि 35-40 की आयु पार करने के बाद भी हज़ारों उत्तरांचली युवा कुंवारे हैं।'
पदाधिकारियों ने कहा कि यह दुःखद है कि कई गलत किस्म के लोग मैरिज ब्यूरो या मॅट्रिमोनी वेबसाइट के नाम से इस परिस्थिति का अनुचित लाभ उठा रहे हैं। वे पैकज के नाम पर पहले ही एक मोटी फीस लेते हैं। सबसे ख़राब तो तब लगता है जब पैसा भरने के बाद भी जो प्रोफाइल दिखाए जाते हैं वो फेक निकलते हैं। इन लोगों का कहना है कि तमाम समस्याओं को देखते हुए उत्तरांचल विवाह मंच का गठन किया गया। आप कैसे काम करते हैं, पूछने पर एक पदाधिकारी ने कहा, मंच द्वारा हर महीने वर-वधू के ब्योरे के साथ एक वैवाहिक सूची प्रकाशित की जाती है। उन्होंने बताया कि अक्तूबर 2019 से अब तक मंच द्वारा 49 वैवाहिक सूची प्रकाशित की जा चुकी हैं। जिसमें 13,000 से अधिक सदस्य जुड़ चुके हैं। पदाधिकारियों ने बताया कि इस वैवाहिक सूची में कोई भी उत्तरांचली बंधू अपने बच्चे का नाम निःशुल्क लिखवा कर अपने मैचिंग के प्रोफाइल के फ़ोन नंबर भी बिलकुल निःशुल्क ले सकता है। उनका दावा है कि मंच में किसी भी वर-वधू का नाम शामिल करते समय उनका प्रोफाइल 2 स्तर पर वेरीफाई किया जाता है। एक और जहाँ, मंच द्वारा प्रत्येक अभिभावक को व्यक्तिगत रूप से फ़ोन कर के जानकारी को वेरीफाई किया जाता है। वहीं दूसरी ओर वर-वधु का आई डी प्रूफ भी चेक किया जाते हैं। जिससे कोई भी फर्जी प्रोफाइल मंच से ना जुड़ सके। उन्होंने बताया कि अब तक लगभग 300 से ज्यादा रिश्ते मंच के माध्यम से हो चुके हैं। आर्थिक सहयोग करने वाले को एक वर्ष की सदस्यता देने का प्रावधान है। मंच के संबंध में उन्होंने बताया कि वैवाहिक सूची में किसी वर-वधु का नाम लिखवाने के लिए बायोडाटा तथा एक आईडी प्रूफ व्हाट्सप्प के माध्यम से 9667895367 पर या Uttaranchalvivah@gmail.com पर ईमेल से भेज सकते हैं।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×