For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

अनूठी खूबियों से भरी उज्जैन की पहली वैदिक घड़ी

08:01 AM Mar 08, 2024 IST
अनूठी खूबियों से भरी उज्जैन की पहली वैदिक घड़ी
Advertisement

धीरज बसाक
बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर की नगरी उज्जैन प्राचीनकाल से ही कालगणना का महत्वपूर्ण केंद्र रही है। दरअसल, यहां से कर्क रेखा गुजरती है। यहीं से विक्रम संवत‌् की शुरुआत होती है और अब यहीं दुनिया की पहली ऐसी वैदिक घड़ी, जमीन से 80 फीट ऊपर टावर में लगायी गई है, जिसमें बेहद अनूठी खूबियां हैं। जीवाजीराव वेधशाला में लगायी गई विश्व की इस पहली वैदिक घड़ी को 1 मार्च, 2024 को रिमोट के जरिये विश्व को लोकार्पित किया गया। इस घड़ी की जो सबसे बड़ी खूबी है, वह यह है कि इसमें 24 घंटे की बजाय 30 घंटे का समय देखा जायेगा। वास्तव में यह घड़ी सुबह सूर्योदय के बाद अगले दिन के सूर्योदय तक के समय को व्यक्त करेगी और इस तरह इसका पूरा एक चक्र 24 नहीं 30 घंटे में पूरा होगा, जिसमें भारतीय स्टैंडर्ड टाइम 60 मिनट की बजाय 48 मिनट प्रति घंटा होगा। इस घड़ी में वैदिककाल जानने के साथ ही कालगणना और अलग-अलग शुभ मुहूर्त भी दिखेंगे।
वास्तव में भारतीय कालगणना की पुरानी पद्धति के साथ आधुनिक कैलकुलेशन के आधार पर यह घड़ी बनायी गई है। दोनों के बीच कुछ जटिलताओं को सरल रूप में समझने के लिए ही इस घड़ी में एक पूरा दिन 30 घंटे का होता है। वास्तव में इस घड़ी की कालगणना को कई सौ साल पुरानी भारतीय कालगणना की वैदिक पद्धति से आधुनिक कालगणना के साथ जोड़ा गया है। यह घड़ी क्योंकि एक मॉडर्न जमाने की है, इसलिए इसे करीब 150 फीट ऊंची क्रेन के माध्यम से वाच टावर पर स्थापित किया गया है। माना जाता है कि वैदिक घड़ी का संबंध सदियों पुराना है और भारत में पंचांग गणना 1906 तक इसी घड़ी के माध्यम से की जाती थी। अब यह घड़ी संस्कृत और संस्कृति को संगम के रूप में जोड़ने वाली उज्जैन नगरी का एक प्रमुख आकर्षण होगी। भारत के कोने-कोने से नहीं, दुनिया के कोने-कोने से न केवल लोग इस घड़ी को यहां देखने आएंगे बल्कि इससे उज्जैन की नई पहचान और पर्यटन में जोरदार भागीदारी बनेगी।
यह घड़ी जिसमें एक घंटा, 48 मिनट का है, वह वैदिक समय तो दिखायेगी ही, साथ ही यह शुभमुहूर्त भी बतायेगी और वैदिक हिंदू पंचांग की तिथियों, ग्रहों की स्थिति, ज्योतिषीय कालगणना और भविष्यवाणियां भी करेगी। यह घड़ी अपने आपमें वैदिक विज्ञान का एक नमूना भी होगी, जो प्राचीन ज्ञान और संस्कृति को आधुनिक विज्ञान के साथ तालमेल बनायेगी।
जब भी सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण होते हैं तो दुनियाभर के खगोलविदों के लिए उज्जैन बहुत महत्वपूर्ण जगह बन जाती है। अब आम लोग भी इसका रोमांच महसूस किया करेंगे। यह घड़ी लोगों को सूर्यग्रहण और चंद्र ग्रहण जैसे शुभमुहूर्तों के बारे में भी बतायेगी। इसका एक मोबाइल एप्लीकेशन भी बनाया गया है जो इंटरनेट में मौजूद है। 1906 तक भारत में ज्योतिषीय कालगणनाएं इसी घड़ी के जरिये होती थी। यह दुनियाभर के ज्योतिष आचार्यों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होगी।
यह वैदिक घड़ी अब उज्जैन की नई पहचान है और यह यहां के पर्यटन कारोबार को नई ऊंचाइयों पर ले जायेगी। भगवान महाकाल की नगरी उज्जैन को अब इस आधुनिक घड़ी के लिए भी जाना जायेगा। इ.रि.सें.

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×