For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

‘टाइगर’ मरा नहीं हारा भी नहीं!

08:09 AM Nov 18, 2023 IST
‘टाइगर’ मरा नहीं हारा भी नहीं
Advertisement

हेमंत पाल

टाइगर सीरीज की इस तीसरी फिल्म को जिस तरह पसंद किया गया, उससे लगता है कि सलमान खान सिर्फ इसी फिल्म के दम पर इंडस्ट्री में जिंदा है। इस सीरीज की एक्शन वाली तीनों फिल्मों ने जिस तरह का कारोबार किया, उससे तो यही संकेत मिलता है। पहले आई एक था टाइगर, फिर ‘टाइगर जिंदा है’ और अब ‘टाइगर-3’ जिसका एक डायलॉग इशारा करता है कि ‘जब तक टाइगर मरा नहीं, तब तक टाइगर हारा नहीं।’ इस फिल्म की एक खासियत यह भी है, कि इसमें कैटरीना (जोया) ने भी सलमान के साथ जमकर एक्शन किया है। दरअसल, ‘टाइगर-3’ टोटल फॉर्मूला फिल्म कही जा सकती है जिसमें सिनेमा के दर्शकों के लिए हर वो मसाला मौजूद है, जो वे देखना चाहते हैं। जोरदार एक्शन सीन, दो बड़े सितारों का कैमियो, देशभक्ति का कथानक और कैटरीना कैफ के टॉवल वाले सीन भी इसी फार्मूले का हिस्सा हैं। इस टॉवल वाले एक्शन सीन ने तो थियेटर में दर्शकों को सीटी मारने पर मजबूर कर दिया।

Advertisement

साल के अंत में बॉक्स ऑफिस गुलजार

यह साल दो खानों के साथ ही सनी देओल के नाम भी रहा। शाहरुख़ खान की ‘पठान’ और ‘जवान’ ने कोरोना काल से सूने पड़े बॉक्स ऑफिस को फिर जिंदा कर दिया, जिसका साथ सनी देओल की ‘ग़दर-2’ ने दिया। साल के बीतते-बीतते सलमान खान की ‘टाइगर-3’ ने टिकट खिड़की की रंगत को कम नहीं होने दिया। इसका इशारा एडवांस बुकिंग से ही मिलने लगा था। दिवाली के दिन परदे पर आई इस फिल्म ने भारत में 44.50 करोड़ का नेट कलेक्शन किया। देखा जाए तो पठान, जवान और ‘ग़दर-2’ को देखते हुए यह आंकड़ा कम है, पर दिवाली पर अब तक रिलीज हुई फिल्मों में यह कलेक्शन एक रिकॉर्ड है। सामान्यतः दिवाली पर बड़ी फ़िल्में रिलीज करने की प्रथा नहीं है। इसलिए कि बॉक्स ऑफिस के लिए इस दिन को फायदेमंद नहीं माना जाता। फिर भी ‘टाइगर-3’ हिंदी सिनेमा के इतिहास में दिवाली के दिन सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म जरूर बन गई। अभी तक इस दिन रिलीज हुई फिल्मों का रिकॉर्ड 20 करोड़ से कम ही रहा। खास बात यह कि सलमान की यह फिल्म हिंदी के अलावा तमिल और तेलुगु में भी रिलीज हुई। इस नजरिये से यह आंकड़ा सलमान के कद से बहुत कम ही कहा जाएगा।

रिलीज का समय सही नहीं

दिवाली के दिन जब रविवार था, इस फिल्म को रिलीज करने का फैसला किसी भी नजरिये से सही नहीं कहा जाएगा। बेहतर होता इसे वीकेंड पर शुक्रवार को रिलीज किया जाता, तो कमाई का आंकड़ा कहीं ज्यादा ऊंचाई छूता। यही वजह है कि यशराज फिल्म्स की ये पांचवीं ‘स्पाई यूनिवर्स फिल्म’ है जो इस साल कमाई करने वाली चार फिल्मों में सबसे नीचे है। टाइगर-3 ने शुरुआती चार दिनों में 169.15 करोड़ का कारोबार किया, जबकि ‘जवान’ ने बॉक्स ऑफिस पर 286.16 करोड़ रुपए कमाए थे। शाहरुख की ही ‘पठान’ ने 220 करोड़ रुपए की कमाई की थी। इन दोनों फिल्मों के अलावा सनी देओल की ‘गदर 2’ ने भी पहले चार दिनों में 173.58 करोड़ रुपए कमाए। इस आंकड़ेबाजी से कहा जा सकता है कि फिल्म को सबसे बड़ा नुकसान इसे वीकेंड पर रिलीज न करने से ही हुआ। ‘टाइगर 3’ की कमाई का आंकड़ा सिर्फ हिंदी का भी नहीं है, इसे तीन भाषाओं में रिलीज किया गया।

Advertisement

सलमान का कैरियर संभाला

यह फिल्म सलमान के लिए बेहद स्पेशल कही जाएगी, क्योंकि लगातार फ्लॉप हो रही फिल्मों के बाद ‘टाइगर-3’ ने उनकी पारी को संभाला है। सलमान की पिछली पांच फिल्मों के बॉक्स ऑफिस रिकॉर्ड बहुत अच्छे नहीं रहे। ‘टाइगर-3’ से पहले सलमान की जो पिछली फिल्में रिलीज हुई, उसमें कोई सुपरहिट नहीं हुई। कोई सामान्य रही, तो कोई हिट से थोड़ा पीछे, तो कोई फ्लॉप हुई। साल 2019 में आई फिल्म ‘रेस-3’ ने 166.40 करोड़ की कमाई की जो सामान्य कही जाएगी। इसी साल (2019) आई ‘भारत’ की कमाई भी 211.07 करोड़ रही जिसे फिल्म कारोबार की भाषा में सेमी-हिट कहा जाता है। 2019 में रिलीज हुई तीसरी फिल्म ‘दबंग-3’ ने 146.11 करोड़ की कमाई की। 2021 में आई ‘अंतिम’ ने तो मात्र 39.06 करोड़ कमाए। 2021 में सलमान की फिल्म ‘राधे’ भी सीमित कमाई वाली फिल्म थी। इस साल (2023) ‘किसी का भाई किसी की जान’ ने भी 110.53 कमाए। साल 2017 में आई ‘टाइगर जिंदा है’ के बाद सलमान की ‘टाइगर-3’ ने ही उनके कैरियर को सहारा दिया।

सिलसिला टूटा नहीं

सलमान की टाइगर सीरीज की तीसरी फिल्म ‘टाइगर-3’ ने दर्शकों में लगातार अपनी रोचकता बनाए रखने में कोई कसर नहीं छोड़ी। टाइगर सीरीज की पहली और दूसरी फिल्म के बाद आई तीसरी फिल्म में भी वही सीक्वेंस है, जिसका सिलसिला 6 साल पहले शुरू हुआ था। ‘टाइगर-3’ का कथानक तीन किरदारों पर केंद्रित है। एक है देशभक्त टाइगर यानी अविनाश सिंह राठौड़ (सलमान खान), दूसरा किरदार है अपने देश के लिए वफादार पाकिस्तान की पूर्व आईएसआई एजेंट जोया (कैटरीना कैफ) और तीसरा और सबसे दिलचस्प किरदार है गद्दार आर्मी ऑफिसर आतिश रहमान (इमरान हाशमी) जो देश को मिसाइल कोड पाने के लिए धोखा देता है, जो चीन ने पाकिस्तान को दिया है। इसे पाने को वो जोया की मदद मांगता है। जोया पाकिस्तानी है, लेकिन टाइगर से शादी के बाद वह अपने ससुराल हिंदुस्तान में रहती है। ऐसे में जोया पति के साथ देश के प्रति वफादारी निभाती है।

रोचक एक्शन सीक्वेंस

फिल्म के कथानक से ज्यादा रोचकता इसके एक्शन सीक्वेंस में हैं। एक स्थिति ऐसी भी आती है, जब टाइगर पर गद्दारी के आरोप लगते हैं। सलमान फिल्म का नायक है, तो निश्चित रूप से उसे गद्दारी से तो बचना ही है। लेकिन, इस कोशिश में फिल्म कई देशों में घूमती है। जहां तक अपने किरदार को दमदारी से निभाने की बात है, तो सलमान, कैटरीना के बाद इमरान हाशमी ने भी विलेन का किरदार बखूबी निभाया। उन्होंने अपनी भूमिका में जान डाल दी। जिस कलाकार को दर्शक सीरियल किसर के नाम से जानते हैं, उसे विलेन के अंदाज में देखना नया अनुभव है।

बड़े सितारों के कैमियो

यह फिल्म एक्शन के मामले में तो अव्वल ही कही जाएगी! इसमें दर्जनभर एक्शन सीक्वेंस है। फिल्म के गाने भी पसंद किए जा रहे हैं, क्योंकि करीब 10 साल के मनमुटाव के बाद सलमान और अरिजीत सिंह एक साथ हैं। इसके अलावा आजकल फिल्मों में नामी कलाकारों का कैमियो भी दर्शकों पर असर दिखाता है। सलमान की इस फिल्म में शाहरुख खान का करीब 25 मिनट लम्बा कैमियो मजेदार है। जब टाइगर पाकिस्तान में फंस जाता है, तो उसे बचाने पठान (शाहरुख़ खान) आता है। कैमियो में ऋतिक रोशन भी नजर आए। शाहरुख का कैमियो और टाइगर का साथ और उसका अंदाज दर्शकों को भाता है। फिल्म में सलमान खान को बचाने के लिए शाहरुख की धांसू एंट्री दर्शकों को उछलने पर मजबूर करती है। वे जेल में सेंध लगाकर अविनाश सिंह राठौड़ को बाहर निकालेंगे। पर, ये जेल इंडिया की नहीं, पाकिस्तान की होगी। फिल्म में शाहरुख और सलमान ‘शोले’ के जय और वीरू की तरह भी नजर आए। फिल्म के एक सीन में शाहरुख ने बाइक चलाई है और कार में सलमान खान दिखे। शाहरुख खान का कैमियो 25 मिनट लम्बा है, जिसने मनोरंजन और एक्शन का तड़का लगाया। ऐसा ही कैमियो सलमान ने शाहरुख़ की ‘पठान’ में किया था। लेकिन, ये कहा जा सकता है कि ‘टाइगर-3’ को सिर्फ मनोरंजक फिल्म की ही तरह देखा जाए, थियेटर से बाहर आकर दिमाग नहीं लगाया जाए! क्योंकि, इसमें सोचने लायक कुछ नहीं है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×