For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

अथ उलूक कथा

08:10 AM Dec 17, 2023 IST
अथ उलूक कथा
Advertisement

सुकेश साहनी

शिकार की ताक में घंटों एक टांग पर खड़े रहने के बावजूद जब उसके हाथ कुछ नहीं लगा, तो वह किसी दूसरे सरोवर की तलाश में निकल पड़ा।
रास्ते में हर कहीं खुशहाली थी। सब अपने-अपने काम में इस कदर मग्न थे कि किसी ने सिर उठाकर उसकी ओर देखा तक नहीं। यह देखकर वह गहरी चिंता में डूब गया। एक पेड़ के नीचे से गुजरते हुए उसे दो उल्लू झगड़ते हुए दिखाई दिए।
‘इस इमारत का मालिक मैं हूं!’ पहला उल्लू।
‘क्या बकते हो?’ दूसरा उल्लू, ‘इसे तो हमारे पूर्वजों ने बनवाया था।’
‘तुम्हारे पूर्वज कितने बड़े लुटेरे थे, यह सभी जानते हैं।’ पहले ने तीर छोड़ा।
‘जुबान संभाल कर बात करो, नहीं तो...’ दूसरा गुर्राया। दोनों झगड़ने लगे।
उसने दोनों को शांत कराया और फिर बड़ी गंभीरता से क्षेत्र का निरीक्षण करने लगा। दूर-दूर तक किसी इमारत का नामोनिशान तक न था। वैसे भी, वह यह सोचकर दंग था कि उल्लू दिन में कब से देखने लगे।
वह उल्लुओं को समझाते हुए बोला, ‘आप दोनों की तीव्र दृष्टि एवं कुशाग्र बुद्धि काबिलेतारीफ है। अपनी-अपनी जगह आप दोनों ही सही हैं। इमारत किसकी है, इसका फैसला आम सहमति से जल्दी ही हम कर देंगे।’ कहकर उसने दोनों को पहचान के लिए अलग-अलग रंग की टोपियां पहना दीं।
उल्लू बिरादरी में यह खबर आग की तरह फैल गई। दिनभर उसके पास उल्लुओं का जमघट लगा रहने लगा। अब वह बाकायदा कुर्सी पर बैठकर उनको टोपियां पहनाने लगा।
अगली बार वह जब क्षेत्रीय भ्रमण पर निकला, तो हर शाख पर टोपी वाले उल्लू बैठे थे और उस अदृश्य इमारत को लेकर आपस में झगड़ रहे थे।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×