For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

भारत की सांस्कृतिक विविधता में समाहित हैं एकता के सूत्र : डा. शरणजीत कौर

10:55 AM Feb 13, 2024 IST
भारत की सांस्कृतिक विविधता में समाहित हैं एकता के सूत्र   डा  शरणजीत कौर
महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय रोहतक में आयोजित यूथ फेस्टिवल में प्रतिभा का प्रदर्शन करते विद्यार्थी। -हप्र
Advertisement

रोहतक, 12 फरवरी (हप्र)
अनेकता में एकता, यही है भारत की विशेषता- गीत की गूंज महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय में आयोजित 37वें इंटर यूनिवर्सिटी नॉर्थ वेस्ट जोन यूथ फेस्टिवल रंग-तरंग को आज यादगार बना गई।
सोमवार को सुरीले गीतों की गूंज-अनुगूंज टैगोर सभागार में छाई रही। प्रतिभागी टीमों ने भारत, भारतीयता तथा भारत की सांस्कृतिक समृद्धता को अपने गीतों की माला में पिरोया। सोमवार को भारतीय पुनर्वास परिषद की अध्यक्ष डा. शरणजीत कौर कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि शामिल हुईं। प्रो. शरणजीत कौर ने इस साहित्यिक-सांस्कृतिक महाकुंभ के प्रतिभागियों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए कहा कि भारत की सांस्कृतिक विविधता में एकता के सूत्र समाहित हैं। उन्होंने विद्यार्थियों से अपनी जड़ों से जुड़ने एवं समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित किया।
दोपहरकालीन सत्र में टैगोर सभागार में भारतीय लोक संस्कृति की सुंदर झलक लोक नृत्य स्पर्धा में देखने को मिली।
राधाकृष्णन सभागार में सम-सामयिक तथा सामाजिक मुद्दों पर अलख जगाते हुए स्किट प्रस्तुतियां दीं। वहीं, प्रतिभागियों ने माइम इवेंट में अपने प्रभावी मूक अभिनय से उपस्थित जन को मंत्रमुग्ध कर दिया। एफडीसी में वाद-विवाद प्रतियोगिता में -कृत्रिम बुद्धिमत्ता रचनात्मकता पर अंकुश लगा रही है- विषय पर प्रतिभागियों ने तर्कों के तीर चलाए।
ललित कला इवेंट्स में आज आन द स्पॉट फोटोग्राफी, क्ले माडलिंग तथा इनस्ट्रालेशन प्रतियोगिताएं आयोजित की गई।
डीन, स्टूडेंट वेलफेयर प्रो. रणदीप राणा, निदेशक युवा कल्याण डा. जगबीर राठी, सहायक निदेशक युवा कल्याण डा. प्रताप राठी, आयोजन समिति सदस्य इस अवसर पर उपस्थित रहे। इस अंतर-विश्वविद्यालय युवा महोत्सव का समापन 13 फरवरी होगा।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×