For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

रोमांचक भी है भगवान शिव के छोटे धाम की यात्रा

07:46 AM Jan 01, 2024 IST
रोमांचक भी है भगवान शिव के छोटे धाम की यात्रा
पार्वती सरोवर
Advertisement

डॉ. अनिल चन्दोला
समुद्र तल से लगभग 5945 मीटर की ऊंचाई पर स्थित आदि कैलास भारत के उत्तराखंड राज्य में सीमांत जनपद पिथौरागढ़ में चीन सीमा के नजदीक है। इसी क्षेत्र में प्रसिद्ध ओम पर्वत भी स्थित है। आदि कैलास देखने में बिल्कुल कैलास की ही तरह दिखता है। कैलास मानसरोवर यात्रा की तरह ही आदि कैलास यात्रा भी रोमांच और खूबसूरती से लबरेज है। आदि कैलास को छोटा कैलास भी कहा जाता है।
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार आदि कैलास में भगवान शिव एवं माता पार्वती का निवास स्थान है और आदि कैलास के समीप पार्वती सरोवर है, कहा जाता है कि माता पार्वती इस सरोवर में स्नान के लिए आती थी। गत वर्ष अक्तूबर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा आदि कैलास दर्शन और पार्वती सरोवर-मंदिर की यात्रा करने से पिथौरागढ़ ज़िले में स्थित इस शिव धाम की देश एवं दुनिया में व्यापक ब्रांडिंग हुई है और भविष्य में इस स्थल के पर्यटन की दृष्टि से तेजी से विकसित होने की आशा जगी है, क्योंकि इस क्षेत्र में तीर्थ यात्रियों को आधारभूत सुविधाएं देने के लिए व्यापक कार्य शुरू हो गया है।

ओम पर्वत का विहंगम दृश्य

कैलास के प्रवेश द्वारा गुंजी गांव में शिवधाम बनाने की योजना है। स्वदेश दर्शन योजना के तहत इसके लिए 75 करोड़ रुपये मंजूर किए गए है। शिवधाम में भव्य स्मारक बनाने के साथ ही यात्रियों के लिए यहां होटल, रेस्टोरेंट, ध्यान और योग केन्द्र का भी निर्माण किया जायेगा। यहां फोटो गैलरी म्यूजियम और शिव की भव्य मूर्ति भी स्थापित की जायेगी। गूंजी से बांई ओर लगभग 40 कि.मी. दूरी पर आदि कैलास और दाई ओर लगभग 18 कि.मी. की दूरी पर ओम पर्वत है।
कैलास मानसरोवर यात्रा का भी यही मार्ग रहा है और वर्ष 2019 तक कैलास मानसरोवर यात्रा पिथौरागढ़-धारचूला-लिपुलेख से होकर चलती थी। राज्य सरकार द्वारा वायुसेना के साथ समन्वय कर वर्ष 2018 में कैलास मानसरोवर यात्रियों को पिथौरागढ़ से हैली सेवा के माध्यम से कैलास मानसरोवर की यात्रा कराई गई थी। वर्ष 2019 के पश्चात इस मार्ग से कैलास मानसरोवर की यात्रा बंद होने से अब यात्री भारी संख्या में आदि कैलास की यात्रा पर जा रहे है। यह यात्रा अप्रैल-मई से अक्तूबर तक संचालित होती है और इस वर्ष 13 हजार से अधिक यात्रियों ने आदि कैलास की यात्रा की है।
कैलास मानसरोवर यात्रा की तरह ही आदि कैलास यात्रा का महत्व है और यह पंच कैलासों में एक कैलास है। हिन्दू मान्यताओं के अनुसार आदि कैलास और ओम पर्वत को बहुत पवित्र माना जाता है। स्कन्ध पुराण के मानसखंड में आदि कैलास और ओम पर्वत की यात्रा को कैलास-मानसरोवर यात्रा के बराबर का महत्व दिया गया है। आदि कैलास की यात्रा के लिए हल्द्वानी-काठगोदाम-अल्मोड़ा होकर पिथौरागढ़ या फिर टनकपुर-चम्पावत होकर पिथौरागढ़ आना पड़ता है। यहां से धारचूला आते है। धारचूला तहसील मुख्यालय है और यहां से गुंजी की दूरी लगभग 72 किलोमीटर है। गुंजी से ही आदि कैलास और ओम पर्वत की यात्रा आगे बढ़ती है। इनर लाइन में होने के कारण इस क्षेत्र की यात्रा बाहरी व्यक्ति/यात्री परमिट लेकर ही करते है। एस.डी.एम. कार्यालय धारचूला से परमिट प्राप्त किया जाता है। जहां यात्रियों का स्वास्थ्य परीक्षण कर परमिट निर्गत किया जाता है। विदेशियों के लिए यहां परमिट नही दिया जाता है। जिला मुख्यालय पिथौरागढ़ से धारचूला की दूरी 90 कि.मी. है। धारचूला से उच्च हिमालयी क्षेत्र की अदभुत रोमांचकारी यात्रा शुरू होती है। पहाड़ी के नीचे कल कल बहती काली नदी यात्रा का रोमांच और भी बढ़ा देती है। छियालेख में स्थित आई.टी.बी.पी. की चैक पोस्ट पर यात्रियों के परमिट की जांच कर ही आगे यात्रा की अनुमति दी जाती है। इस उच्च हिमालयी सीमांत क्षेत्र में सेना, आई.टी.बी.पी. पूरी मुस्तैदी के साथ सीमाओं की सुरक्षा के साथ ही स्थानीय लोगों की चिकित्सा सुविधा भी उपलब्ध करा रही है। छियालेख से सड़क बिल्कुल नीचे पाताल की तरफ जाती है, जिसमें कई मोड़ यात्रा का रोमांच और भी बढ़ा देते है। अनेक मोड़ों से गुजरने के पश्चात ब्यास घाटी के गर्बियांग, बून्दी गुन्जी, नाबि, कुटी, नपलच्यूं आदि गांव आते है। ब्यास घाटी में 7 गांव है, जिसमें अंतिम गांव कुटी है। शीत ऋतु में इन गांवों के निवासी धारचूला चले जाते है। गुंजी/नपल्यूं में काली नदी का संगम कुटी, नदी से होता है, यहां की स्थानीय भाषा में नदी को यागंति कहते है। गुंजी से लगभग 02 किलोमीटर की दूरी पर नाबि गांव है, जहां यात्रा काल में खूब रौनक रहती है। स्थानीय लोगों द्वारा यहां कई होम स्टे संचालित किये जा रहे है। इस गांव में एक 200 वर्ष पुराना ऐतिहासिक मकान आज भी सुरक्षित है।

Advertisement

आदि कैलास का विहंगम दृश्य

आदि कैलास की यात्रा के लिए नाबि गांव से आगे बढ़ा जाता है, जहां पर इस घाटी का अंतिम गांव कुटी आता है, कुटी से बर्फीले मार्ग से आगे बढ़ते हुए 4572 मी. की ऊंचाई पर ज्योलीकांग आता है, जहां से बिल्कुल सामने आदि कैलास के दर्शन होते है। हिमाच्छित चोटियों के मध्य भगवान शिव का यह धाम छोटा कैलास अद‌्भुत है, जो ब्रहम पर्वत के समीप स्थित है। ज्योलीकांग में सेना का शिविर है, जो आदि कैलास आने वाले यात्रियों को मेडिकल सुविधा भी आवश्यकता पर उपलब्ध कराते है। ज्योलिकांग का तापमान शून्य डिग्री से नीचे रहता है और प्रकृति का अदभुत नजारा यहां दिखता है। ज्योलीकांग से ट्रैकिंग करते हुए लगभग 3 से 4 कि.मी. दूर पर पार्वती सरोवर है और इसके पास ही एक मंदिर है। इसके पास ही गौरीकुंड है। पार्वतीकुंड उच्च हिमालयी क्षेत्र में 4497 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। ऐसा कहा जाता है कि यहां माता पार्वती ने शिव की अराधना की थी।
आदि कैलास की यात्रा कुछ समय पहले तक एक कठिन यात्रा थी। पैदल मार्ग और ट्रेकिंग के द्वारा यात्री इस यात्रा का आनंद लेते थे, लेकिन अब भारत सरकार के द्वारा इस क्षेत्र में सड़क का निर्माण किया जा चुका है। एक दुरूह यात्रा को सुगम बनाने के लिए केन्द्र एवं राज्य सरकार पूरी सक्रियता से कार्य कर रही है। नाबि में अतिथि होम स्टे संचालित करने वाले युवा युग नबियाल प्रधानमंत्री की इस क्षेत्र की यात्रा में बहुत आशन्वित है। उनका मानना है कि अब इस क्षेत्र के पर्यटन विकास को एक नया आयाम मिलेगा। आदि कैलास यात्रा को और बेहतर ढंग से संचालित करने के लिए कुमाऊं मण्डल विकास निगम भी आगे आया है। भविष्य में नैनीसैनी हवाई पट्टी, पिथौरागढ़ के क्रियाशील हो जाने तथा धारचूला से ज्योलीकांग तथा सड़क सुविधा बेहतर हो जाने से आदि कैलास और ओम पर्वत आने वाले यात्रियों की संख्या में भारी इजाफा होने के पूरे आसार है।
ब्यास घाटी का यह क्षेत्र सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है। इस क्षेत्र में एक पावर हाउस का निर्माण अंतिम चरण पर है, जिससे इस क्षेत्र में एक नई रोशनी पहुंचेगी। अभी इन गांवों में सोलर प्रकाश की व्यवस्था है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×