For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

राज्यपाल ने विपक्ष से विधायकों के हस्ताक्षरयुक्त मांगा पत्र, तब हटे पीछे : सैनी

07:30 AM May 12, 2024 IST
राज्यपाल ने विपक्ष से विधायकों के हस्ताक्षरयुक्त मांगा पत्र  तब हटे पीछे   सैनी
Advertisement

चंडीगढ़, 11 मई (ट्रिन्यू)
हरियाणा में भाजपा की अल्पमत सरकार को भंग करवाने की मांग के बाद सरकार गठन के दावे से पीछे हटी कांग्रेस पर आज मुख्यमंत्री नायब सैनी ने पलटवार किया। नायब सैनी ने दावा किया कि विपक्ष को अपने ही विधायकों पर भरोसा नहीं है। राज्यपाल की तरफ से विपक्ष को अपने सभी विधायकों के हस्ताक्षर करवाकर लाने को कहा गया था, जिसके बाद विपक्ष सरकार गठन के दावे से ही भाग गया। शनिवार को हर बूथ हर घर संपर्क अभियान के अवसर पर पत्रकारों से बातचीत में नायब सैनी ने यह दावा किया।
हरियाणा में तीन निर्दलीय विधायकों द्वारा समर्थन वापस लिए जाने के बाद भाजपा सरकार अल्पमत में चली गई, जिसके बाद कांग्रेस ने शुक्रवार को राजभवन जाकर सरकार को भंग करने अथवा राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग पर ज्ञापन सौंपा था। हालांकि राजभवन जाने से पहले कांग्रेस प्रदेश में सरकार गठन का दावा कर रही थी। राजभवन में राज्यपाल के सचिव को ज्ञापन देने के बाद लौटे कांग्रेस विधायकों ने केवल सरकार को भंग करने तथा राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग पर जोर दिया।
इस बीच के घटनाक्रम का पटाक्षेप करते हुए शनिवार को सीएम नायब सैनी ने बताया कि राज्यपाल ने विपक्ष के नेताओं से लिखित रूप में विधायकों को साइन करवाकर लाने को कहा है। विपक्ष को पता है कि सभी विधायक हस्ताक्षर नहीं करेंगे। नायब सैनी ने स्पष्ट किया कि एक महीना पहले हमने विश्वास मत हासिल किया है। विपक्ष का काम शिगूफा छोड़कर लोगों को गुमराह करना है।
नैना चौटाला के काफिले पर हुए हमले के बारे में सीएम ने कहा कि यह मामला उनका अंदरूनी मामला है, फिर भी इस प्रकार के हमले नहीं होने चाहिए।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×