For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

सुरजीत पातर की याद में शुरू होगा पुरस्कार

06:41 AM May 14, 2024 IST
सुरजीत पातर की याद में शुरू होगा पुरस्कार
लुधियाना में सोमवार को लेखक डाॅ. सुरजीत पातर के अंतिम संस्कार के मौके पर उनकी अर्थी को कांधा देते मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान। -हिमांशु महाजन
Advertisement

लुधियाना, 13 मई (निस)
प्रख्यात पंजाबी कवि और लेखक पद्मश्री डा. सुरजीत पातर का अंतिम संस्कार आज यहां पूरे राजकीय सम्मान के साथ मॉडल टाउन श्मशानघाट पर किया गया। गत 11 मई को सोते समय हृदयगति रुक जाने से उनका निधन हो गया था। उनके बेटों अंकुर सिंह पातर और मनराज सिंह पातर ने मुखाग्नि दी। डा. पातर को श्रद्धांजलि देने के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान के अलावा स्थानीय विधायक, कई कलाकार और अधिकारी मौजूद थे। तख्त श्री केसगढ़ साहिब आनंदपुर साहिब के पूर्व जत्थेदार भाई मंजीत सिंह ने अंतिम प्रार्थना की। मान ने यहां मॉडल टाउन श्मशान घाट पर डा. पातर की अर्थी को कांधा भी दिया।
मान ने डा. पातर को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनकी याद में पातर पुरस्कार शुरू करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि स्कूल स्तर पर वार्षिक राज्य स्तरीय प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी और विजेता को एक लाख रुपये का नकद पुरस्कार दिया जाएगा। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि प्रतियोगिता में स्कूलों में सातवीं कक्षा से लेकर प्लस-टू तक के छात्र भाग ले सकेंगे। इस प्रतियोगिता में उन्हें कविता लिखने के लिए प्रोत्साहित किया जायेगा। उन्होंने सुरजीत पातर को अपना मेंटर बताया। उन्होंने कहा, ‘मैं अपने भाषणों में पातर साहब की कविताएं उद्धृत करता था। आज, मेरे पास कहने के लिए कोई शब्द नहीं हैं।’
अंतिम संस्कार के मौके पर सांसद संत बलबीर सिंह सीचेवाल और मोहम्मद सद्दीक, विधायक अशोक पराशर पप्पी, पूर्व सांसद जगमीत सिंह बराड़, पूर्व मंत्री मलकीत सिंह दाखा और महेशइंदर सिंह ग्रेवाल, शिक्षाविद् पद्मभूषण सरदारा सिंह जोहल, पंजाबी साहित्य अकादमी के अध्यक्ष डाॅ. सरबजीत सिंह, शमशेर सिंह संधू, डाॅ. दीपक मनमोहन सिंह, दर्शन बुट्टर अध्यक्ष, केंद्रीय पंजाबी लेखक संघ, डाॅ. स्वराजबीर, पंजाबी ट्रिब्यून की कार्यकारी संपादक अरविंदर कौर जोहल, पंजाब कला परिषद के प्रोफेसर योगराज अंगरीश, केवल धालीवाल, दीवान मन्ना, अमर नूरी, इरशाद कामिल, पम्मी बाई, गुरप्रीत घुग्गी आदि भी मौजूद थे।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×