For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

होर्डिंग्स उतरवाने और लगाने को लेकर जोर-आजमाइश

11:16 AM Apr 04, 2024 IST
होर्डिंग्स उतरवाने और लगाने को लेकर जोर आजमाइश
जींद में बुधवार को लघु सचिवालय के सामने एक राजनीतिक पार्टी का हो​र्डिंग लगाते मजदूर। -हप्र
Advertisement

जसमेर मलिक/हप्र
जींद, 3 अप्रैल
जींद में प्रशासन और राजनीतिक लोगों के बीच हो​​र्डिंग्स उतरवाने और लगाने को लेकर जोर-आजमाइश चल रही है। प्रशासन होर्डिंग्स उतरवाता है तो सियासी दल होर्डिंग्स लगा देते हैं।
लोकसभा चुनाव के लिए इस समय आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू है। कोई भी राजनीतिक व्य​क्ति शहर में अपने होर्डिग्स और बैनर प्रशासन की अनुमति के बिना नहीं लगा सकता। जींद में प्रशासन होर्डिंग्स और बैनर उतरवाता है, तो पीछे-पीछे राजनीतिक लोग इनको फिर से लगा देते हैं। चुनावों की घोषणा होने के 20 दिन बाद भी शहर में होर्डिंग्स और बैनर लगे दिखाई दे रहे हैं। प्रशासन ने हो​र्डिंग्स और बैनर हटाने के लिए नगर परिषद की एक कमेटी का गठन किया हुआ है। कमेटी हर दूसरे या तीसरे दिन होर्डिंग्स उतारती है। अब जिला निर्वाचन अ​धिकारी से अनुमति लेने के बाद ही कोई सियासी दल होर्डिंग्स या बैनर लगा सकता है। प्रशासन की अनुमति के बिना होर्डिंग्स लगाना आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है। कुछ ऑटो के पीछे आज भी एक राजनीतिक पार्टी के नेता के बैनर लगे दिखाई दे रहे हैं। इससे साफ है कि राजनीतिक लोगों को चुनाव आचार संहिता का पता होने के बावजूद वह जान- बूझकर ऐसा कर रहे हैं।
होर्डिंग्स को चुनावी खर्च में करेगा शामिल
डीसी एवं जिला निर्वाचन अधिकारी मोहम्मद इमरान रजा ने कहा कि जिन राजनीतिक दलों के होर्डिंग्स शहर में लगे नजर आएंगे, उन दलों के चुनावी खर्च में होर्डिंग्स का खर्च शामिल कर दिया जाएगा। प्रशासन आए दिन होर्डिंग्स उतरवा रहा है। कुछ राजनीतिक लोग बिना अनुमति के होर्डिंग्स लगा रहे हैं। ऐसे लोगों को नोटिस जारी किए जाएंगे। जिस पार्टी के होर्डिंग्स या बैनर लगे मिलेंगे, उसके प्रत्याशी के खर्च में इनका खर्च जोड़ा जाएगा।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×