For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

चुनावी फिजा भांपने वाले हुनरबाजों के राज

06:31 AM Apr 30, 2024 IST
चुनावी फिजा भांपने वाले हुनरबाजों के राज
Advertisement

आलोक पुराणिक

इन दिनों एक धंधा चल निकला है-चुनाव एक्सपर्ट होने का, पोल एक्सपर्ट का, हर बंदा जिसके पास एक कोट है, वह पोल एक्सपर्ट है। एक टीवी चैनल में जाने का मौका मिला बतौर पोल एक्सपर्ट, चर्चा यूं रही है।
एंकर : जी आपको क्या लगता है कि चुनाव में क्या चल रहा है।
पोल एक्सपर्ट : मेरी राय में चुनाव में हवा चल रही है।
एंकर : यही तो बताइए कि किसकी हवा चल रही है।
एक्सपर्ट : देखिये हवा कभी उनकी चल रही है, कभी इनकी चल रही है। पर एक बात पक्की है कि हवा चल रही है।
एंकर : चुनाव में जोर किसका है।
एक्सपर्ट : देखिये जोर का तो यह है कि जिस दिन इस पार्टी के नेता की रैली होती है, इस पार्टी का जोर दिखता है। जिस दिन उस पार्टी के नेता की रैली होती है, उस दिन उस पार्टी का जोर दिखता है।
एंकर : आखिर चुनाव जा कहां रहा है?
एक्सपर्ट : देखिये, चुनाव कहीं नही जा रहा है। नेता आ रहे हैं जा रहे हैं। चुनाव में तो सब कुछ सैट है, 4 जून को रिजल्ट आ जायेगा।
एंकर : ओफ्फो यह तो बताइये कि आपके लिहाज से चुनाव का ऊंट किस करवट बैठने वाला है?
एक्सपर्ट : देखिये ऊंट अभी चल रहा है। जब बैठेगा तो पता लग जायेगा कि किस करवट बैठेगा। वैसे ऊंटों का बैठना आपने देखा नहीं है, कई बार ऊंट बिलकुल सीधे बैठते हैं।
एंकर : ओफ्फो मैंने मुहावरे की बात की।
एक्सपर्ट : देखिये चुनाव की बात हो, गिरगिट की बात कीजिये, रंग बदलता है। बंदर की बात कीजिये, इधर से उधर, उधर से फिर आगे उधर कूदता रहता है। कुत्ते की भी बात कर सकते हैं, बेवजह कई बार भौंकता है। इन जानवरों की बात तो बनती है चुनाव के मामले में। पर ऊंट का तो कोई कनेक्शन दिखाई नहीं पड़ता चुनाव से।
एंकर : ओफ्फो, लगता है कि आप बात को समझे नहीं।
एक्सपर्ट : देखिये भारतीय चुनावों को समझना बहुत मुश्किल काम है। फिर भी कोशिश तो की ही जा सकती है।
एंकर : महाराष्ट्र में किस तरह की हवा है।
एक्सपर्ट : जी महाराष्ट्र में महाराष्ट्र की हवा है। मतलब महाराष्ट्र के करीब के समंदर से हवा उठती है, बहुत पसीना आता है मुंबई में। राजस्थान में राजस्थान की हवा है, बहुत गर्म है।
एंकर : आप सीधी तरह से न बता रहे हैं कि चुनाव जा कहां रहे हैं।
एक्सपर्ट : चुनाव में कुछ भी सीधा हो रहा है, जो आपको सीधी बात बतायी जा सके चुनाव के बारे में। आप देखिये जो कुछ दिन पहले जो नेता कांग्रेस के प्रवक्ता नजर आ रहे थे, वो अब भाजपा के वक्ता हो गये।
एंकर : आप साफ बताइये जीतेगा कौन।
एक्सपर्ट : जी जिसके साथ बहुमत होगा, वही जीता हुआ मान लिया जायेगा।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×