For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

शहीद किसानों की कुर्बानी को भुलाया नहीं जा सकता : रतनमान

09:06 AM Feb 07, 2024 IST
शहीद किसानों की कुर्बानी को भुलाया नहीं जा सकता   रतनमान
करनाल में बलिदान दिवस के मौके पर मंगलवार को उपस्थित किसान। -हप्र
Advertisement

करनाल, 6 फरवरी (हप्र)
गांव जाम्बा स्थित किसान भवन में स्व. किसान नेता तेजा सिंह का बलिदान दिवस श्रद्धाभाव से मनाया गया। कार्यक्रम में प्रदेशभर से किसानों ने इस कार्यक्रम में पहुंचकर शहीद किसान नेता तेजा सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित की। बलिदान दिवस पर आयोजित किए गए समारोह का संचालन भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सेवा सिंह आर्य ने किया।
बलिदान दिवस की अध्यक्षता हलका नीलोखेड़ी प्रधान धर्म सिंह मोहड़ी ने की। किसान भवन परिसर में यज्ञ में आहुति डालकर सुख-समृद्धि की कामना की और हलवे का प्रसाद वितरित किया गया। किसान नेताओं ने उनकी प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया।
गौरतलब है कि सन-1994 में नागपुर में हुए किसान महाधिवेशन में जाम्बा गांव के किसान तेजा सिंह शहीद हो गए थे। उनकी याद में गांव जाम्बा में किसान भवन का निर्माण किया गया है। भाकियू प्रदेशाध्यक्ष रतनमान ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि किसान नेता तेजा सिंह के बलिदान को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता।
विभिन्न किसान आंदोलन में शहीद हुए किसानों की शहादत की वजह से ही देश और प्रदेश में किसान आंदोलन मजबूत हुआ है। उन्होंने कहा कि  आने वाली 16 फरवरी को ग्रामीण भारत बंद रहेगा।
रतनमान ने हाल ही में यमुनानगर, अंबाला व पंचकूला जिले में हुई भारी ओलावृष्टि के मुद्दे को उठाते हुए कहा कि आज तक सरकार ने किसानों की सुध नहीं ली है।
ओलावृष्टि के कारण तबाह हुई फसलों पर गिरदावरी नहीं करवाई गई है। इसको लेकर आने वाली 13  फरवरी को प्रदेश के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुज्जर के आवास पर किसानों की महापंचायत का आयोजन किया जाएगा।
शहीद किसान तेजा सिंह के सुपुत्र एवं पूर्व सरपंच राम सिंह जाम्बा ने बलिदान दिवस समारोह में उपस्थित किसान नेताओं व उपस्थित जनों का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर वरिष्ठ किसान नेता अर्जुन सिंह, पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष राजेन्द्र सीधपुर, किसान नेता प्रेमचंद शाहपुर, बाबूराम डाबरथला, सुरेंद्र सांगवान, मेहताब कादियान, बाबूराम बड़थल, सुरेन्द्र बेनिवाल, राजीव आर्य, भुरा राम पबनावा, धनेतर राणा, राम दुरेजा सहित काफी संख्या में किसान मौजूद रहे।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×