For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

गवर्निंग बॉडी की मीटिंग में बवाल, लगे आरोप-प्रत्यारोप

08:09 AM Jan 18, 2024 IST
गवर्निंग बॉडी की मीटिंग में बवाल  लगे आरोप प्रत्यारोप
Advertisement

हरीश भारद्वाज/हप्र
रोहतक, 17 जनवरी
वैश्य एजुकेशन सोसाइटी रोहतक में बुधवार को गवर्निंग बॉडी की बैठक शुरू होने से पहले ही प्रधान व सेक्रेटरी गुट में हंगामा हो गया। आपस में दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाए। वहीं, प्रधान ने आरोप लगाया कि दूसरे पक्ष ने उन पर पानी की बोतलें फेंककर मारी हैं। जबकि, दूसरे गुट के सेक्रेटरी व अन्य पदाधिकारियों ने आरोप लगाया कि उनको जान से मारने की धमकी दी गई। विवाद बढ़ता देख मौके पर पुलिस बुलानी पड़ी। विवाद के बाद सेक्रेटरी राजेंद्र बंसल, कोषाध्यक्ष चंद्र गर्ग व वाइस प्रेसिडेंट दीपक जिंदल ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया, जिसे बैठक में स्वीकार कर लिया गया।
वैश्य एजुकेशन सोसाइटी के 105 कॉलेजियम मेंबर हैं। संस्था को चलाने के लिए 21 सदस्यों की गवर्निंग बॉडी बनाई गई है, जिसकी बुधवार को बैठक थी। बैठक में 21 में से 20 सदस्य पहुंचे। इस दौरान बैठक में प्रधान व सेक्रेटरी पक्ष के लोग आपस में भिड़ गए। विवाद के बाद सेक्रेटरी राजेंद्र बंसल, कोषाध्यक्ष चंद्र गर्ग व वाइस प्रेसिडेंट दीपक जिंदल ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया तथा गवर्निंग बॉडी के कुल 8 सदस्यों सहित बैठक का बहिष्कार कर दिया। इसके बाद प्रधान नवीन जैन ने इस्तीफे को बैठक में रखकर स्वीकार कर लिया। साथ ही वैकल्पिक व्यवस्था करने की बात कही।
वैश्य एजुकेशन सोसायटी के सेक्रेटरी राजेंद्र बंसल ने कहा कि मीटिंग की रिकार्डिंग के लिए प्रधान ने कैमरामैन बुलाया हुआ था और उन्होंने भी अलग से कैमरामैन बुला लिया, क्योंकि पिछली बार मीटिंग की मिनट्स की रिकॉर्डिंग मांगी तो उन्होंने देने से मना कर दिया था। इसलिए अलग कैमरामैन बुलाया था। बैठक में चाहे एक रिकार्डिंग करें या दो, उससे क्या फर्क पड़ता है। उन्होंने आरोप लगाया कि बैठक में कोषाध्यक्ष के साथ प्रधान के साथियों ने बदतमीजी की और बाहर आने पर देख लेने की धमकी भी दी।राजेंद्र बंसल ने आरोप लगाया कि प्रधान नवीन जैन ने शुरू से ही गलत काम किए हैं।
कोषाध्यक्ष चंद्र गर्ग ने कहा कि वे पिछले कुछ दिनों से बाहर गए हुए थे। इसकी सूचना पहले ही वे दे चुके थे, लेकिन अब अचानक पीछे से मीटिंग बुलाई गई है। वहीं, 35 लोगों ने प्रधान के खिलाफ लिखकर दिया है कि प्रधान ने संस्था को करोड़ों रुपए का नुकसान किया है। उन्होंने कहा कि समाज की भलाई में वे संस्था चला रहे थे। अब मजबूरी में उन्होंने तंग आकर तीनों को इस्तीफा देना पड़ा। प्रधान प्रत्येक मीटिंग में उन्हें बोलने तक नहीं देते।
बैठक के बाद प्रधान नवीन जैन ने पत्रकार वार्ता आयोजित कर बताया कि वैश्य एजुकेशन सोसायटी की विशेष बैठक में सभी 5 पदाधिकारी एवं 15 सदस्य उपस्थित थे।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×