For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

मन्नत

06:32 AM Jan 07, 2024 IST
मन्नत
Advertisement

नरेश शुक्ला
मैंने चांद को बतियाते
कभी नहीं देखा,
पर तारों की ख़ामोशी भी
सुनता हूं हर रात
पर जलता हूं उनके सुकून से

दूर बहुत दूर...
सोचता हूं यह
हमारी नज़रों की पहुंच की
यह आखिरी हद है
या उनकी उदारता
जो मैं देख पता हूं उन्हें

Advertisement

उनकी झिलमिलाहट देख कर
लगता है जैसे अब वह कुछ कहेंगे
शायद कुछ बोले...
मैं भूल जाता हूं कि
उनके पास धैर्य है
गंभीरता है
और
किसी को कुछ दे देने की भावना भी,

तब
मैं खुद से सवाल करता हूं
खुद को टटोलता हूं
ढूंढ़ता हूं यह सब...
मिलती है सिर्फ निराशा

Advertisement

कुछ भी तो नहीं है ऐसा मेरे पास
अचानक नजर फिर ऊपर जाती है
जब एक तारा टूट कर गुम हो जाता है
मुझे भी लगता है
लो हो गयी फिर किसी एक की
‘मन्नत’ पूरी...

मैं धीरे से आंखें बंद कर लेता हूं
और
एक प्रश्नात्मक निश्चय करता हूं कि
क्यों न अब खामोश रहूं
अन्यथा
मैं टूट भी जाऊंगा
और किसी की
‘मन्नत’ भी पूरी नहीं होगी...
मैं एक ‘तारा’ नहीं हूं न...?

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×