For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

सकारात्मक दृष्टि

07:24 AM Jan 01, 2024 IST
सकारात्मक दृष्टि
Advertisement

एक बार एक व्यक्ति ने कोयल से कहा, ‘तू काली न होती तो कितनी अच्छी होती।’ गुलाब से कहा, ‘तुझमें कांटे न होते तो कितना अच्छा होता।’ समुद्र से कहा, ‘तेरा पानी अगर नमकीन न होता तो कितना अच्छा होता।’ वह व्यक्ति फिर मंदिर गया भगवान से बोला, ‘तू मूर्तियों में न होकर असलियत में होता तो कितना अच्छा होता।’ इतने में भगवान बोले, ‘ऐ मेरे बनाये हुए इंसान अगर तुझमें सिर्फ दूसरों की कमियां ही देखने की आदत न होती तो कितना अच्छा होता।’

प्रस्तुति : अक्षिता तिवारी

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×