For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

कविताएं

07:37 AM Mar 31, 2024 IST
कविताएं
Advertisement

हेमधर शर्मा

दु:ख में सुख

जब भी मुझ पर दु:ख आता है
मैं खुद से ज्यादा दु:खी व्यक्ति से
तुलना करने लगता हूं
अपना दु:ख मुझको
हल्का लगने लगता है।

Advertisement

सुखी व्यक्ति मैं
सब लोगों को लगता हूं
है नहीं किसी को पता
कि मन ही मन में मैं
कितना ज्यादा दु:ख सहता हूं
टूटे चाहे जिस पर भी कष्टों का पहाड़
सहने में होती मेरी भी हिस्सेदारी
बस साथ मात्र होने से मेरे
दु:खी व्यक्ति का दु:ख
हल्का हो जाता है
अद्भुत है इससे मेरे भी
व्यक्तिगत दु:खों का कोटा
कम हो जाता है।

दुनिया में सबको सुखी दिखाई पड़ता हूं
दुनियाभर का दु:ख सहता हूं
दु:ख लेकिन मुझको
सुख जैसा ही लगता है!

Advertisement

जिजीविषा

बाबा मेरे थे अस्सी के
जब गिरे, नहीं उठ पाये
फिर वे बिस्तर से अंतिम क्षण तक
उम्मीद उन्हें पर बनी रही
फिर से अच्छे हो जायेंगे
फिर घूम सकेंगे
अपनी उसी साइकिल से!
आजी को लगता था
अपने अंतिम दिन तक
बस किसी तरह हो जाये दूर
यह जलन हाथ और पैरों की
वे फिर से कर सकती हैं
सारा काम पुरानी फुर्ती से।
नानी तो मेरी
शतक पूर्ति के बाद अभी भी
जिजीविषा के बल पर अपनी
जाकर मुख के पास मौत के,
कई बार लौट आई है
यह कैसा है दुर्दम्य हौसला
अंतिम क्षण तक जो जीवन के
उम्मीद बंधाता रहता है!
जीवन का शायद
सार यही है जिजीविषा
यह नहीं अगर हो तो मानव
जीते जी भी मुर्दा जैसा बन सकता है
इसके बल पर ही
लेकिन अंतिम क्षण तक भी
वह जिंदादिल रह सकता है!

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×