For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

कविताएं

07:43 AM Dec 10, 2023 IST
कविताएं
Advertisement

अरुण आदित्य

डायरी

पंक्ति-दर-पंक्ति तुम मुझे लिखते हो
पर जिन्हें नहीं लिखते,
उन पंक्तियों में तुम्हें लिखती हूं मैं

Advertisement

रोज-रोज देखती हूं कि
लिखते-लिखते
कहां ठिठक गई तुम्हारी कलम
कौन-सा वाक्य लिखा
और फिर काट दिया

किस शब्द पर फेरी
इस तरह स्याही
कि बहुत चाह कर भी
कोई पढ़ न सके उसे
और किस वाक्य को काटा इस तरह
कि काट दी गई इबारत ही
पढ़ी जाए सबसे पहले

Advertisement

रोज तुम्हें लिखते और
काटते देखते हुए
एक दिन चकित हो जाती हूं
कि लिखने और काटने की कला में
किस तरह माहिर होते जा रहे हो तुम
कि अब तुम कागज से पहले
मन में ही लिखते और काट लेते हो
मुझे देते हो सिर्फ संपादित पंक्तियां
सधी हुई और चुस्त

इन सधी हुई और चुस्त पंक्तियों में
तुम्हें ढूंढ़ते हैं लोग
पर तुम खुद कहां ढूंढ़ोगे खुद को
कि तुमसे बेहतर जान सकता है कौन
कि जो तस्वीर तुम
कागज पर बनाते हो
खुद को उसके कितना करीब पाते हो?

जरूरी नहीं...

जरूरी नहीं
फूल और अगरबत्ती बेचने वाली भी
कोमल और सुंगधित हो...
जरूरी नहीं...
कब्रिस्तान के पास रहने वाले ने
जीने के लिए नहीं
सोचा हो...

कितने अंदर...

कितने अंदर की गहराई में
कुसुमों की परछाई में
हृदय महक रहा
मौसम लहक रहा

वह मीठा बोलती...

वह मीठा बोलती
रस घोलती

रस के लिए
क्या-क्या नहीं
करती...
पुरुषोत्तम व्यास

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×