For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

जन संसद

07:46 AM Feb 05, 2024 IST
जन संसद
Advertisement

राजनीतिक पक्ष भी

अयोध्या में राम मंदिर का बनना तथा रामलला की मूर्तियों की प्राण-प्रतिष्ठा न केवल भारत बल्कि विश्व के हिंदुओं के लिए एक सपने के साकार होने के बराबर है। अयोध्या में राम जन्म मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा का निहित अर्थ जहां आध्यात्मिक है उससे बढ़कर राजनीतिक है। एक प्रकार से यह सारा कार्यक्रम भाजपा का राजनीतिक कार्यक्रम था। अधिकांश विपक्षी दल इस राजनीतिक कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए। वहीं शंकराचार्यों ने इसको लेकर प्रश्न उठाये और वे प्राण-प्रतिष्ठा में शामिल नहीं हुए। इस कार्यक्रम में सरकारी मशीनरी का भरपूर इस्तेमाल किया गया।
शामलाल कौशल, रोहतक

युगांतरकारी घटना

अयोध्या में राम-जन्म भूमि मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा वास्तव में एक युगांतरकारी घटना है। लगभग पौन-सदी के लम्बे इंतजार के बाद यह शुभ दिन आया। अब हम सबका कर्तव्य बनता है कि हम राम के जीवन के आदर्शों को अपने जीवन में उतारें। हमारी प्राचीन काल से चली आ रही गंगा-जमुनी संस्कृति को और अधिक समृद्ध बनायें। मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के आदर्शों की प्रतिष्ठा हमारे सामाजिक, राजनीतिक तथा सांस्कृतिक जीवन में भी होनी चाहिए। आर्थिक विकास का लाभ समाज के प्रत्येक व्यक्ति तक पहुंचे, ऐसा होने पर ही हम सही अर्थों में राम भक्त कहलाएंगे।
सतीश शर्मा, माजरा, कैथल

Advertisement

मर्यादित मूल्य अपनाएं

अयोध्या में राम जन्म मंदिर स्थापना में प्राण प्रतिष्ठा जन-जन की सनातनी भावनाओं का सम्मान व राजनीतिक लाभ से जुड़ा पहलू है। शायद आगामी 2024 के संसदीय चुनाव में जनहित के बदले वोट बैंक की मजबूती। यह राजनीतिक आयोजन चुनावी मद्देनजर संपन्न हुआ। इस कारण चार शंकराचार्यों ने अपनी भागीदारी नहीं दिखाई। धर्मनिरपेक्ष हिंदुत्व के सहारे सत्तारूढ़ दल अपनी विजय कामयाबी लक्ष्य साधना चाहता है। आवश्यकता है रामराज के मर्यादित नैतिक सामाजिक आदर्श मूल्यों को अपनाने व साफ-सुथरी नि:स्वार्थ राजनीति की।
अनिल कौशिक, क्योड़क, कैथल

जीवन का अनुसरण हो

राम मंदिर कई दशकों की कानूनी लड़ाई, सामाजिक तनाव व सांस्कृतिक आकांक्षाओं की परिणति का प्रतीक है। भारत में आज राम मंदिर न केवल सामाजिक मुद्दा नहीं बल्कि राजनीतिक मुद्दा बनकर भी उभरा है। बेहतर रहता इसे राजनीतिक मुद्दा न बनाया जाता। दूसरी ओर राम मंदिर आर्थिक रूप से देश की वृद्धि में सहायक बनेगा। लोगों को व्यापार करने के अवसर मिलेंगे, उनके लिए रोजगार के अवसर खुलेंगे। वही देश में पर्यटन बढ़ेगा। राम मंदिर केवल मंदिर नही करोड़ों लोगों की भावनाएं हैं। आज आवश्यकता है युवा पीढ़ी को राम आचरण का अनुसरण करना।
श्वेता चौहान, जालंधर

Advertisement

मानवीय मूल्यों की रक्षा

अयोध्या में राम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा वैश्विक स्तर पर राम के न्याय, समता और समानता का संदेश देगी। मूर्ति-पूजक बहुसंख्यक हिंदू समुदाय के रामायण महाग्रंथ में जिस राम राज्य की कल्पना मानव मात्र के कल्याण के लिए की गई थी उसका यह शुरुआती दौर है। अयोध्या में प्रतिष्ठा का यह आयोजन समूचे विश्व के लिए मानवता और मर्यादा के पालन का संदेश वाहक होगा। अब लोग मत, पंथ और मजहब से परे हटकर राम के आदर्शों को जीवन में आत्मसात कर समाज, देश और दुनिया में भाईचारा स्थापित करें जो मानवता की रक्षा के लिए निहित जरूरी है।
अमृतलाल मारू, इंदौर, म.प्र.

सांस्कृतिक पुनर्जागरण

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का संकल्प पूरा होना आजाद भारत की बड़ी उपलब्धि है। इससे भारत के स्वाभिमान और संस्कृति को बल मिला है। राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा से देशवासियों में नई ऊर्जा व उत्साह का संचार हुआ। निर्माण एक तरह से रामराज्य की संकल्पना की ओर संकेत करता है। रामराज्य में सभी के लिए अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता सुलभ थी। यह सांस्कृतिक पुनर्जागरण के साथ तीर्थाटन के नए युग की ओर भी संकेत कर रहा है। भगवान राम को मर्यादा पुरुषोत्तम इसलिए कहा जाता है क्योंकि उन्होंने एक पुत्र, पति, भाई व शासक के रूप में सभी मर्यादाओं का पालन किया।
सोहन लाल गौड़, कैथल

एकता के सूत्र

श्रीराम जी की अनुकरणीयता पुरुषार्थ, सर्वजीवनता और सर्वव्यापकता ने इस गुंबद की राजनीति का अंत कर दिया। उसकी जगह विराट और सूक्ष्म, सगुण और निपुण, वैदिक लोकायत संकल्पनाओं का साकार रूप में ऊर्जा केन्द्र मन्दिर बन गया। भगवान राम के जन्मस्थान के मन्दिर से हमारी समन्वयकारी परम्परा, संस्कृति, धर्म और सभ्यता का गर्भनाल का रिश्ता है। यह मंदिर भविष्य के भारत में राम के आदर्श, लोकतांत्रिक राज्य, जाति-वर्ग से परे सर्वसमावेशी समाज और लोकमंगलकारी शासन का नाभिकीय केन्द्र बनेगा। यहां से देश और समाज की एकता के सूत्र निकलेंगे।
रमेश चन्द्र पुहाल, पानीपत

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×