For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

मूलभूत सुविधाओं को तरसे लोग : दीपेंद्र

07:49 AM Apr 20, 2024 IST
मूलभूत सुविधाओं को तरसे लोग   दीपेंद्र
रोहतक के बाजार में जनसंपर्क अभियान के दौरान एक दुकान पर जलेबी बनाते दीपेंद्र सिंह हुड्डा। -निस
Advertisement

रोहतक, 19 अप्रैल (निस)
राज्यसभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि पिछले साढ़े नौ साल से लोकसभा क्षेत्र के लोग मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रहे हैं। रोहतक शहर में तो लोग गंदा पानी पीने को मजबूर हैं। यहां तक कि सरकार इस समस्या को दूर करने के लिए बड़े दावे तो करती रही है, लेकिन धरातल पर कोई काम नहीं किया। अमृत योजना के 300 करोड़ रुपये का कोई अता-पता नहीं है, जबकि मौजूदा सांसद अरविंद शर्मा ने ही अमृत योजना में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था। हालांकि, बाद में उन्होंने चुप्पी साध ली। उन्होंने कहा कि एक वक्त था जब अरविंद शर्मा करनाल से सांसद थे तो कांग्रेस के विकास कार्यों का बखान करते थे। अब उन्हें वह विकास कार्य नजर नहीं आते। इससे साफ है कि वे अपने स्टैंड पर कायम नहीं रहते और मौसम की तरह बदलते हैं। दीपेंद्र हुड्डा ने शुक्रवार को घर-घर कांग्रेस, हर घर कांग्रेस अभियान के तहत बाबरा मोहल्ला मार्केट में दुकानदारों व लोगों से मुलाकात की। लोगों ने उन्हें बताया कि वे पिछले काफी वर्षों से गंदा पानी पीने को मजबूर हैं।
सरकार मूलभूत सुविधा तक उपलब्ध नहीं करवा रही है। सांसद ने कहा कि कांग्रेस सरकार आने पर मूलभूत सुविधाओं को प्राथमिकता दी जाएगी और पेयजल समस्या का जड़ से समाधान किया जाएगा। दीपेंद्र ने कहा कि उनके काम तो खुद बोलते हैं। रोहतक से मौजूदा सांसद अरविंद शर्मा अपने काम गिनाएं। उन्हेांने कहा कि अरविंद शर्मा ने ये आरोप लगाकर कांग्रेस छोड़ी थी कि दीपेंद्र हुड्डा ने सारे काम रोहतक में ही करवा दिए, लेकिन भाजपा में जाने के बाद अब कह रहे हैं कि दीपेंद्र ने रोहतक में काम ही नहीं करवाए।

बाजार में बनाई जलेबी

दीपेंद्र ने माता दरवाजा चौक स्थित प्राचीन शीतला माता मंदिर में माथा टेककर आशीर्वाद लिया। उन्होंने बाजार में हलवाई के साथ जलेबी बनाई। दीपेंद्र ने कहा कि आज रोहतक ही नहीं पूरे हरियाणा की जनता भाजपा सरकार से परेशान है। रोहतक के लोगों में इस बात को लेकर भारी रोष है कि मौजूदा सांसद ने कभी इलाके की सुध नहीं ली। दीपेंद्र ने कहा कि रोहतक की जनता इस बार बदलाव का मन बना चुकी है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×