For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

एकदा

10:48 AM Dec 06, 2023 IST
एकदा
Advertisement

एक बार संत एकनाथ से किसी बात पर नाराज होकर रूढ़िवादियों ने उनके पुत्र हरि पंडित को उनके विरुद्ध यह कहकर भड़काना शुरू कर दिया कि तुम्हारा पिता धर्मग्रंथों का पाठ मराठी भाषा में करता है और किसी के भी हाथ का बना खा-पी लेता है। हरि जब इस बारे में बात करता तो एकनाथ तर्कों से उसे समझाने की कोशिश करते| लेकिन उनकी बातें हरि के गले नहीं उतरतीं। एक दिन वह अपने पिता से बोला कि हम दोनों के सोचने का तरीका बिलकुल भिन्न है। इसलिए जब हम एकमत नहीं हो सकते तो बेहतर है कि मैं घर छोड़ दूं। यह कहकर वह घर से निकल गया और वाराणसी जाकर बस गया। हरि के जाने से उसकी मां गिरिजा दुखी रहने लगीं। उन्होंने एकनाथ से बेटे को वापस बुला लाने की जिद की। हरि इस शर्त पर पैठण वापस आया कि उसके पिता उसकी बात मानेंगे। इसके बाद एकनाथ ने संस्कृत में पाठ करना शुरू कर दिया। इससे उनके श्रोताओं की संख्या घट गई। यह देखकर पुत्र को सच का भान हुआ और अपनी मातृभाषा के प्रति पिता को पुनः अनुराग करने का आग्रह किया। प्रस्तुति : सुरेन्द्र अग्निहोत्री

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×