For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

मोदी ने की संभावित मंत्रियों से मुलाकात, खट्टर, बिट्टू भी बन सकते हैं मंत्री

01:11 PM Jun 09, 2024 IST
मोदी ने की संभावित मंत्रियों से मुलाकात  खट्टर  बिट्टू भी बन सकते हैं मंत्री
Advertisement

नयी दिल्ली, नौ जून (भाषा/एएनआई)

New ministers of Modi cabinet: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता मनोहर लाल खट्टर, शिवराज सिंह चौहान, बंदी संजय कुमार और रवनीत सिंह बिट्टू राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार की मंत्रिपरिषद के उन नए चेहरों में शामिल हैं, जो आज शाम प्रधानमंत्री पद के लिए नामित नरेन्द्र मोदी के साथ शपथ ले सकते हैं।

Advertisement

सूत्रों ने बताया कि अमित शाह, राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, पीयूष गोयल, अश्विनी वैष्णव और मनसुख मांडविया जैसे वरिष्ठ नेताओं को नयी सरकार में मंत्री पद मिलने की पूरी उम्मीद है।


उन्होंने बताया कि भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया, उत्तर प्रदेश से सांसद जितिन प्रसाद और महाराष्ट्र से सांसद रक्षा खडसे को भी नयी सरकार में मंत्री बनाए जाने का संकेत है।

Advertisement

खडसे ने मीडिया से बातचीत में पुष्टि की कि उन्हें सरकार का हिस्सा बनने के लिए फोन किया गया है। इनमें से कई नेताओं ने नरेन्द्र मोदी के आवास पर उनसे मुलाकात की।


एक सूत्र ने बताया कि निवर्तमान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, सर्बानंद सोनोवाल और किरेन रीजीजू भी मंत्री पद की शपथ लेंगे। तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) के राम मोहन नायडू, चंद्रशेखर पेम्मासानी, जनता दल (सेक्युलर) के ललन सिंह और रामनाथ ठाकुर के अलावा चिराग पासवान, जीतन राम मांझी, एच डी कुमारस्वामी और जयंत चौधरी को भी मंत्री पद की शपथ दिलाए जाने की संभावना है।

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते बिट्टू लोकसभा चुनाव हार गए थे, लेकिन उनके कद और पंजाब में भाजपा की पकड़ मजबूत करने के प्रयास के मद्देनजर उन्हें मंत्रिपरिषद में शामिल किया जा सकता है।

तेलंगाना से निर्वाचित सांसद संजय कुमार और जी किशन रेड्डी को नरेंद्र मोदी के आवास की ओर जाते हुए देखा गया। वहीं, उनके करीबी सूत्रों ने भी यह बताया कि आज शाम दोनों को मंत्री पद की शपथ दिलाई जा सकती है।

हालांकि, अभी आधिकारिक तौर पर संभावित मंत्रियों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है। राजग सरकार की मंत्रिपरिषद में मंत्रियों का चयन करते समय भाजपा को उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में अपने प्रदर्शन को भी ध्यान में रखना होगा, ताकि वह दोबारा वहां अपनी मजबूत पकड़ बना सके।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Advertisement
×