For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

केजरीवाल की अंतरिम जमानत लोकतंत्र की जीत : आप

07:27 AM May 11, 2024 IST
केजरीवाल की अंतरिम जमानत लोकतंत्र की जीत   आप
Advertisement

नयी दिल्ली, 10 मई (एजेंसी)
आम आदमी पार्टी (आप) ने अपने राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को अंतरिम जमानत देने के लिए शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट का धन्यवाद व्यक्त किया और कहा कि उनकी रिहाई से देश में ‘बड़े बदलावों’ का मार्ग प्रशस्त होगा। यहां पार्टी कार्यालय में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में आप नेता एवं दिल्ली के मंत्री सौरभ भारद्वाज ने अंतरिम जमानत को केजरीवाल के लिए भगवान हनुमान का आशीर्वाद बताया। भारद्वाज ने कहा, ‘केजरीवाल को 40 दिन बाद अंतरिम जमानत मिलना किसी चमत्कार से कम नहीं है। यह दैवीय संकेत भी है कि देश में मौजूदा हालात बदलने वाले हैं। उनकी रिहाई से देश में बड़े बदलावों का मार्ग प्रशस्त होगा।’ पार्टी की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने कहा कि देश में लोकतंत्र से प्यार करने वाले सभी लोग शीर्ष अदालत के फैसले से बहुत खुश हैं और यह उनके लिए आशा की किरण है। आप नेता और दिल्ली की मंत्री आतिशी ने शीर्ष अदालत के फैसले को देश में सच्चाई तथा लोकतंत्र की जीत बताया। उन्होंने कहा कि यह फैसला लोकतंत्र को बचाएगा और स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव कराएगा। पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में, कहा, ‘सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं। माननीय सुप्रीम कोर्ट के निर्णय है स्वागत है। तानाशाही खत्म होगी। सत्यमेव जयते।’
केजरीवाल को जमानत ‘लोकतंत्र की जीत’ : सुनीता
अरविंद केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल ने उनके पति को अंतरिम जमानत देने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले को ‘लोकतंत्र की जीत’ बताया और कहा कि यह राहत लाखों लोगों की प्रार्थना और आशीर्वाद का परिणाम है। सुनीता ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा, ‘हनुमान जी की जय। यह लोकतंत्र की जीत है। यह लाखों लोगों की प्रार्थना और आशीर्वाद का परिणाम है। सभी को बहुत-बहुत धन्यवाद।’
अंतरिम जमानत मिलने से खुश हूं : ममता बनर्जी
कोलकाता (एजेंसी) : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट द्वारा अंतरिम जमानत दिए जाने पर संतोष व्यक्त किया और कहा कि इसका मौजूदा लोकसभा चुनावों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। ममता ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा, “मुझे यह देखकर बहुत खुशी हुई कि अरविंद केजरीवाल को अंतरिम जमानत मिल गई है। यह मौजूदा चुनावों के संदर्भ में बहुत मददगार होगा।”
भगवंत मान ने फैसले का स्वागत किया
चंडीगढ़ (एजेंसी) : पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने अरविंद केजरीवाल को जमानत दिए जाने के सुप्रीम कोर्टके फैसले का स्वागत किया और कहा कि वे अब और अधिक ताकत से लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई लड़ेंगे। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल को बड़ी राहत देते हुए शीर्ष अदालत ने उन्हें लोकसभा चुनाव में प्रचार करने के लिए एक जून तक अंतरिम जमानत दे दी। मान ने ‘एक्स’ पर लिखा, ‘सुप्रीम कोर्ट का धन्यवाद। अब हम अधिक ताकत के साथ लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई लड़ेंगे। अरविंद केजरीवाल एक व्यक्ति नहीं विचार हैं और अब हम अधिक ताकत के साथ इस विचार को आगे ले जाएंगे।’
लोगों का लोकतंत्र में विश्वास बढ़ेगा : कांग्रेस
नयी दिल्ली (एजेंसी) : कांग्रेस की दिल्ली इकाई के प्रमुख देवेंद्र यादव ने अरविंद केजरवाल को जमानत दिए जाने के फैसले का स्वागत किया और कहा कि इससे लोकतंत्र में लोगों को विश्वास बढ़ेगा। यादव ने कहा, “हम कहते आए हैं कि भाजपा और इसके नेताओं ने लोकतांत्रिक प्रतिष्ठानों पर कब्जा कर लिया है। इसकी वजह से मौजूदा मुख्यमंत्रियों तक को जेल जाना पड़ा है। मैं उन्हें (अंतरिम) जमानत प्रदान करने के सुप्रीम कोर्ट की सराहना करता हूं। इससे लोगों का लोकतंत्र में विश्वास बढ़ेगा।”
चुनाव आयोग ने खड़गे को लताड़ा
नयी दिल्ली (एजेंसी) : भारत निर्वाचन आयोग ने मतदान आंकड़ों पर विपक्षी नेताओं को कांग्रेस प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे द्वारा लिखे गए पत्र पर शुक्रवार को कड़ी आपत्ति जतायी और इसे स्पष्टीकरण मांगने की आड़ में “पक्षपातपूर्ण विमर्श को आगे बढ़ाने” का प्रयास बताया। उसने खरगे के पत्र को “चुनाव संचालन की एक महत्वपूर्ण कड़ी पर हमला” करार दिया। अनुलग्नकों के साथ पांच पन्नों के जवाब में निर्वाचन आयोग ने मतदान आंकड़ा जारी करने में कुप्रबंधन और देरी के आरोपों को खारिज कर दिया तथा खरगे के आरोपों को “अवांछित”, “तथ्यहीन” तथा “भ्रम फैलाने के पक्षपातपूर्ण और जानबूझकर किए गए प्रयास को प्रतिबिंबित करने वाला” करार दिया। निर्वाचन आयोग ने कहा कि खरगे अन्य दलों के नेताओं के साथ चिंता व्यक्त करने के लिए स्वतंत्र हैं, लेकिन पत्र को सार्वजनिक करने से मंशा पर सवालिया निशान खड़े होते हैं। उसने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता खड़गे को “सतर्कता बरतने” और ऐसे बयान देने से “बचने” की सलाह दी। आयोग ने खड़गे के उस बयान की निंदा की जिसमें उन्होंने सवाल किया था कि क्या मतदान प्रतिशत आंकड़ा जारी करने में देरी “अंतिम परिणामों में हेरफेर करने का प्रयास” है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×