For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

झारखंड : चंपई सोरेन को राज्यपाल के बुलावे का इंतजार

07:05 AM Feb 02, 2024 IST
झारखंड   चंपई सोरेन को राज्यपाल के बुलावे का इंतजार
रांची में राज्यपाल से मिलने जाते विधायक दल के नेता चंपई सोरेन ।-प्रेट्र
Advertisement

रांची, 1 फरवरी (एजेंसी)
झारखंड में राजनीतिक संकट के बीच झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) विधायक दल के नेता चंपई सोरेन ने राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन से बृहस्पतिवार को मुलाकात की और सरकार बनाने के लिए उनके दावे को जल्द स्वीकार करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने गठबंधन के प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिया कि वह जल्द ही इस मामले पर निर्णय लेंगे।
चंपई सोरेन ने राज्यपाल से मुलाकात के बाद कहा, ‘हमने राज्यपाल से जल्द से जल्द निर्णय लेने का अनुरोध किया क्योंकि झारखंड में 20 घंटे से अधिक समय से कोई सरकार नहीं है।’ हेमंत सोरेन को बुधवार रात यहां धनशोधन मामले में सात घंटे की पूछताछ के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गिरफ्तार कर लिया था। इससे पहले उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद चंपई सोरेन झामुमो विधायक दल के नेता चुने गए थे। चंपई सोरेन ने ‘एक्स’ पर कहा, ‘हम एकजुट हैं। हमारा गठबंधन बहुत मजबूत है; इसे कोई नहीं तोड़ सकता।’ झामुमो के नेतृत्व वाले गठबंधन द्वारा जारी एक वीडियो में 81 सदस्यीय झारखंड विधानसभा में 43 विधायकों का समर्थन दिखाया गया है। राज्यपाल से मुलाकात के बाद कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने कहा, ‘यदि राज्यपाल हमें नहीं बुलाते हैं तो हम कल दोपहर में फिर से उनसे मुलाकात का समय मांगेंगे।’

हेमंत सोरेन एक दिन की न्यायिक हिरासत में, सुप्रीम सुनवाई आज

धन शोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) अदालत ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा गिरफ्तार किए गए झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को बृहस्पतिवार को एक दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। ईडी ने सोरेन का 10 दिन का रिमांड मांगा था।
अदालत ने अपना आदेश शुक्रवार के लिए सुरक्षित रख लिया। उधर, गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को सुनवाई करने के लिए सहमत हो गया। सोरेन ने पहले झारखंड हाईकोर्ट में अपनी गिरफ्तारी को चुनौती दी और फिर सोरेन की ओर से पेश वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल, अभिषेक सिंघवी तथा अन्य कानूनी सहयोगियों ने रणनीति बदली और सुप्रीम कोर्ट का रुख करने का फैसला किया। सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता और अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल एसवी राजू ने सोरेन की याचिका का
विरोध किया।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×