For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

गाजा के स्कूल पर इजराइली हमला, पांच बच्चों सहित 30 लोगों की मौत

01:54 PM Jun 06, 2024 IST
गाजा के स्कूल पर इजराइली हमला  पांच बच्चों सहित 30 लोगों की मौत
गाजा पट्टी के दीर अल-बलाह में, इजरायल-हमास संघर्ष के बीच, इजरायली हमलों में मारे गए फिलिस्तीनियों के अंतिम संस्कार के दौरान एक लड़की बिलखती हुई। फोटो रायटर्स
Advertisement

देर अल-बला (गाजा पट्टी) छह जून (एपी)

Attack on School: बृहस्पतिवार को मध्य गाजा में एक स्कूल पर इजरायली हमले में पांच बच्चों सहित कम से कम 30 लोग मारे गए। इजराइली सेना ने कहा कि इस स्कूल का इस्तेमाल "हमास के अड्डे" के रूप में किया जा रहा था।

Advertisement

स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने यह जानकारी दी। यह हमला तब हुआ जब सेना ने कहा कि वह मध्य गाजा में नए हवाई और जमीनी अभियान शुरू कर रही है और एक अंतरराष्ट्रीय चिकित्सा समूह ने हताहतों की संख्या में वृद्धि की सूचना दी है।

अस्पताल के रिकॉर्ड और अस्पताल में एसोसिएटेड प्रेस के एक संवाददाता के अनुसार, देर अल-बला में अल-अक्सा शहीद अस्पताल में स्कूल पर हमले की वजह से कम से कम 30 शव मिले और एक घर पर अलग से किए गए हमले के बाद छह और शव मिले।

Advertisement

इससे पहले हमास द्वारा संचालित मीडिया ने स्कूल पर किए गए हमले में अधिक संख्या में लोगों के मारे जाने की सूचना दी थी। इजराइली सेना ने कहा कि उसके लड़ाकू विमानों ने फलस्तीनियों को सहायता प्रदान करने वाली संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी द्वारा संचालित स्कूल पर हमला किया।

एजेंसी को ‘यूएनआरडब्ल्यूए' के नाम से जाना जाता है। इजराइली सेना ने दावा किया कि ‘हमास' और ‘इस्लामिक जिहाद' संगठनों ने अपनी गतिविधियों के लिए स्कूल का इस्तेमाल ढाल के रूप में किया।

हालांकि, सेना ने तत्काल इसका कोई सबूत पेश नहीं किया। गाजा में ‘यूएनआरडब्ल्यूए' स्कूल युद्ध की शुरुआत से ही आश्रय के रूप में काम कर रहे हैं। इस युद्ध के कारण 23 लाख से अधिक फलस्तीनियों की अधिकांश आबादी विस्थापित हो गई है।

इजराइली सेना ने दावा किया, "हमले के दौरान निर्दोष नागरिकों को नुकसान पहुंचने के जोखिम को कम करने के लिए हमला करने से पहले कई कदम उठाए गए थे, जिनमें हवाई निगरानी करना और अतिरिक्त खुफिया जानकारी शामिल हैं।"

नुसेरात शरणार्थी शिविर गाजा पट्टी के मध्य में है। यह मध्य गाजा में बना एक फलस्तीनी शरणार्थी शिविर है जो 1948 के अरब-इजराइल युद्ध के समय से है।

युद्ध की शुरुआत सात अक्टूबर को इजराइल पर हमास के हमले से हुई जिसमें कम से कम 1,200 लोग मारे गए और 250 अन्य लोगों को बंधक बनाया गया।

गाजा पट्टी में इजराइली सैन्य अभियान में कम से कम 36,000 फलस्तीनी मारे गए हैं, जबकि इजराइली कब्जे वाले ‘वेस्ट बैंक' में अभियानों में सैकड़ों अन्य मारे गए हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Advertisement
×