For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

एसएमसी और कंप्यूटर शिक्षकों के समर्थन में आया हिमाचल शिक्षक महासंघ

08:00 AM Feb 12, 2024 IST
एसएमसी और कंप्यूटर शिक्षकों के समर्थन में आया हिमाचल शिक्षक महासंघ
Advertisement

शिमला, 11 फरवरी (हप्र)
लोकसभा चुनाव से ठीक पहले शिक्षकों ने हिमाचल की सुक्खू सरकार की मुसीबतें बढ़ा दी हैं। अपने नियमितीकरण को लेकर शिमला में आंदोलन कर रहे एसएमसी और कंप्यूटर शिक्षकों के समर्थन में शिक्षकों का सबसे बड़ा संगठन हिमाचल शिक्षक महासंघ मैदान में कूद गया है। महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. प्रेम शर्मा ने आज शिमला में इन दोनों शिक्षक वर्गों के आंदोलन का समर्थन किया और सरकार को इनके नियमितीकरण के लिए तुरंत स्थायी नीति बनाने की मांग की।
शिक्षक महासंघ ने सरकार से कर्मचारियों का 12 प्रतिशत देय महंगाई भत्ता तुरंत जारी करने, यात्रा भत्ते व चिकित्सा बिलों की शीघ्र अदायगी और एनटीटी व बीआरसीसी की भर्ती भी शीघ्र करने का आग्रह किया। महासंघ ने शिक्षकों और प्रदेश सरकार के अन्य कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति की आयु सीमा 58 वर्ष से बढ़ाकर 60 वर्ष करने की भी मांग की है। महासंघ ने सरकार को हिमाचल प्रदेश प्रशासनिक प्राधिकरण खोलने के फैसले पर फिर से विचार करने की भी नसीहत दी और कहा कि शिक्षक महासंघ सरकार के इस फैसले के खिलाफ है। प्रेम शर्मा ने कहा कि ट्रिब्यूनल का शिक्षकों व कर्मचारियों को कभी भी लाभ नहीं मिल पाया।
इससे पूर्व डॉ. प्रेम शर्मा ने शिमला जिला शिक्षक महासंघ की बैठक को भी संबोधित किया। इस बैठक में शिक्षकों से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई और प्रदेश सरकार दवारा ओल्ड पेंशन लागू करने व एम.डी.एम वर्करों को प्रसूति अवकाश प्रदान करने के लिए सरकार का आभार जताया गया।
बैठक में जिला शिमला कार्यकारणी का गठन भी किया गया जिसमें भूपिन्दर सिंह को सर्वसम्मति से अध्यक्ष, दीपक काइथ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष चुना गया। बैठक में शिक्षक नेताओं प्रकाश धरेवला, नरोत्तम शर्मा, ऋतु शर्मा, एसएमसी अध्यक्ष सुनील शर्मा, बलबीर सिंह, कमल कैंथला, मोहन दरसाइक, सुरेंदर शर्मा, तरुण शर्मा, सुन्नी खंड के अध्यक्ष ज्ञान शर्मा, महासचिव नवीन कुमार, वेद प्रकाश, हेम चंद ठाकुर व अन्य ने भाग लिया।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×