For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

स्वास्थ्य विभाग ने पुलिस को दिए आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश

11:20 AM Feb 06, 2024 IST
स्वास्थ्य विभाग ने पुलिस को दिए आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश
Advertisement

चंडीगढ़, 5 फरवरी (हप्र)
पंजाब पब्लिक सर्विस कमीशन (पीपीएससी) द्वारा 2008-09 के दौरान मेडिकल अफसरों (एमओ) की भर्ती में कथित घोटाले की जांच के दौरान पंजाब विजिलेंस ब्यूरो ने हाईकोर्ट द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) की सिफ़ारिश के अनुसार राज्य सरकार को पुलिस विभाग द्वारा आरोपी उम्मीदवारों के खि़लाफ़ कार्रवाई को अंजाम देने के लिए कहा है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण के सचिव ने 19 दिसंबर, 2023 को पुलिस को इस संबंध में ज़रूरी कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। इस दौरान, विजिलेंस ने अपने पटियाला रेंज थाने में दो केस पहले ही दर्ज किये हुए हैं जिनकी आगे जांच जारी है।
ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि इस घोटाले की जांच के लिए हाईकोर्ट द्वारा गठित विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने मेडिकल क्षेत्र में बतौर समाज सेवक काम करने के फ़र्ज़ी सर्टिफिकेट पेश करने वाले दोषी उम्मीदवारों के खि़लाफ़ केस दर्ज करने की सिफ़ारिश की थी। विजिलेंस ने 15 दिसंबर, 2023 को राज्य सरकार को ऐसे मेडिकल अफसरों के खि़लाफ़ पुलिस विभाग को केस दर्ज कराने के लिए कहा था।
प्रवक्ता ने बताया कि पंजाब सरकार से 14 दिसंबर, 2023 को प्राप्त निर्देशों का पालन करते हुए विजिलेंस ब्यूरो ने उक्त भर्ती घोटाले से सम्बन्धित दो केस दर्ज किये हैं। इस सम्बन्ध में मेडिकल अफसरों की चयन प्रक्रिया के दौरान साजिश रचने और पेशेवराना अनियमितताएं करने वाले पीपीएससी के समकालीन सदस्यों के खि़लाफ़ एफआईआर 18 दिसंबर, 2023 को ब्यूरो के पुलिस थाना, पटियाला रेंज में दर्ज की गई है।
इसके अलावा, एक अन्य एफआईआर 18 दिसंबर, 2023 को ब्यूरो के पुलिस थाना पटियाला रेंज में पीपीएससी के तत्कालीन मेंबर डा. सतवंत सिंह मोही के खि़लाफ़ आय से अधिक संपत्ति रखने के आरोप में भ्रष्टाचार रोकथाम कानून के अंतर्गत भी दर्ज की गई है।
प्रवक्ता ने खुलासा किया कि एसएसपी, विजिलेंस ब्यूरो, रेंज पटियाला की निगरानी वाली एसआईटी दोनों मामलों की आगे जांच कर रही है। इस मामले के तीन अन्य आरोपियों डीएस माहल, रविन्द्र कौर और अनिल सरीन को हाईकोर्ट ने गिरफ़्तारी से अंतरिम सुरक्षा देते हुये विजिलेंस जांच में शामिल होने के निर्देश दिए हैं।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×