For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

एनजीटी के आदेश नहीं मानने पर जीएमडीए अधिकारियों को मांगनी पड़ी माफी

10:36 AM May 12, 2024 IST
एनजीटी के आदेश नहीं मानने पर जीएमडीए अधिकारियों को मांगनी पड़ी माफी
Advertisement

गुरुग्राम, 11 मई (हप्र)
गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण (जीएमडीए) और हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (एचएसवीपी) ने राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) के आदेशों को दरकिनार कर सेक्टर-41 में जोहड़ को विकसित कर दिया। सुनवाई के दौरान एनजीटी के न्यायाधीश भड़क गए। उन्होंने अधिकारियों को स्पष्ट तौर पर कहा कि यह मनमानी एनजीटी आदेश का उल्लंघन है। इस उल्लंघन पर दोषी अधिकारियों को जेल भेजा जा सकता है।
न्यायाधीश की नाराजगी को देखते हुए इन दोनों विभागों के अधिकारियों ने तुरंत माफी मांग ली। न्यायाधीश ने माफी को स्वीकार करते हुए आदेश जारी किए कि मंजूर योजना के तहत इस जोहड़ को 6 महीने के अंदर विकसित किया जाये। 20 नवंबर तक दोनों विभागों को एनजीटी में जवाब देना होगा। मामले की अगली सुनवाई दो दिसंबर तय की गई है।
तीन मई को एनजीटी के न्यायाधीश अरुण कुमार त्यागी और सदस्य डॉ. अफरोज अहमद ने सेक्टर-41 (गांव सिलोखरा) में जोहड़ को मिट्टी से भरने की याचिका पर सुनवाई की। जीएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ए.श्रीनिवास, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुभाष यादव, सहित अन्य अधिकारी विडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े थे। न्यायाधीश ने सुनवाई शुरू होने के साथ नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा कि पिछले साल 17 मार्च को सुनवाई के दौरान स्पष्ट आदेश जारी किए थे कि इस जोहड़ को किस तरह विकसित किया जाना है, लेकिन जीएमडीए ने मनमानी करते हुए इस योजना में बदलाव कर दिया। एनजीटी की बिना मंजूरी के सीएसआर के तहत इस काम को किसी एनजीओ को करने के लिए सौंप दिया। जितने इलाके में जोहड़ को विकसित करने के आदेश जारी किए थे, उससे कम में विकसित किया।
न्यायाधीश ने अधिकारियों से कहा कि एनजीटी आदेश की पालना नहीं हुई है। आदेश के उल्लंघन पर एनजीटी अधिनियम, 2010 में सजा का प्रावधान है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि इस मनमानी पर उनके खिलाफ एनजीटी अधिनियम के तहत कार्रवाई की जानी चाहिए। न्यायाधीश की बात सुनकर अधिकारियों ने तुरंत माफी मांग ली। न्यायाधीश ने चेतावनी दी कि छह महीने के अंदर जारी आदेश के मुताबिक इस जोहड़ को विकसित किया जाए। सीएसआर के तहत कार्य को करवाने के लिए एनजीटी ने मंजूरी प्रदान कर दी है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×