For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

निबंधों में गहरी आलोचनात्मक अंतर्दृष्टि

08:07 AM Dec 17, 2023 IST
निबंधों में गहरी आलोचनात्मक अंतर्दृष्टि
पुस्तक : साधो! यह मुर्दों का गांव! लेखक : डॉ. धर्मचन्द्र विद्यालंकार प्रकाशक : ममता पब्लिकेशन, गाजियाबाद पृष्ठ : 160 मूल्य : रु. 300.
Advertisement

अरुण कुमार कैहरबा

विभिन्न विधाओं की दो दर्जन से अधिक किताबें लिख चुके डॉ. धर्मचन्द्र विद्यालंकार के निबंध-संग्रह ‘साधो! यह मुर्दों का गांव!’ में भारतीय समाज, संस्कृति, इतिहास, धर्म, अर्थव्यवस्था और भाषा आदि पर आधारित 16 निबंध हैं। विविधता को समाहित करने के बावजूद सभी निबंध समता एवं न्याय पर आधारित बेहतर सामाजिक और राजनीतिक व्यवस्था के निर्माण की छटपटाहट लिए हुए हैं। गहन गंभीरता और विचारशीलता से सराबोर इन निबंधों में इतिहास का आलोचनात्मक विश्लेषण है, वर्तमान की गहरी छानबीन है और उज्ज्वल भविष्य को दिशा देेने की कोशिश है।
लेखक आधुनिक लोकतांत्रिक चेतना के स्थान पर मध्यकालीन संकीर्ण मानसिकता के बढ़ते जाने को लेकर चिंतित है। पहला ही निबंध ‘साधो! यह मुर्दों का गांव!’ से ही किताब का भी नामकरण किया गया है, जो कि उचित जान पड़ता है। यह पूरे संग्रह का प्रतिनिधि निबंध है, जिसमें मध्यम वर्ग की समाज परिवर्तन और विशेष रूप से भारतीय संदर्भ में स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय भूमिका को रेखांकित किया गया है। मौजूदा समय में अपनी भूमिका के प्रति इस वर्ग की उदासीनता पर व्यंग्य करते हुए लेखक कहता है कि अब विवेकशील, तर्कशील, अध्ययनशील और विचारशील मध्यम वर्ग में देखने को नहीं मिल रहा है। अब वह समाज के कमजोर वर्गों के हितों से विमुख, आत्मकेन्द्रित, घोर स्वार्थी, धर्मान्ध व अंधविश्वासी होता जा रहा है।
दूसरा निबंध, ‘अब अंबर-बेल ही अमर बेल बन गई है?’ में देश व प्रदेश की राजनीतिक दशा की विवेचना है। जिसमें लेखक कहता है कि अब राजनेता के लिए व्यापक जनाधार होना अनिवार्य नहीं रह गया है। बल्कि जोड़तोड़ व जातीय-साम्प्रदायिक विभाजन की महारत ही राजनीति में सफलता का आधार बन गई है।
सभी निबंध पठनीय हैं, जो कि विषय को लेकर गहरी आलोचनात्मक अंतर्द़ृष्टि प्रदान करते हैं। निबंधों की भाषा बहुत सशक्त है। अनेक स्थानों पर भाषा व्यंग्यात्मकता से धारदार बन गई है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×