For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है सरकार

10:39 AM Apr 21, 2024 IST
किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है सरकार
इन्द्री के गांव धमनहेरी में शनिवार को ओलावृष्टि से फसलों के नुकसान का जायजा लेते सीएम नायब सैनी। -हप्र
Advertisement

करनाल, 20 अप्रैल (हप्र)
मुख्यमंत्री नायब सैनी ने कहा कि ओलावृष्टि से किसानों की जो फसलें खराब हुई हैं, उसके लिए क्षतिपूर्ति पोर्टल खोलने के आदेश दिए। फसल खराबे का जायजा लेने के लिए अधिकारियों को भेजा गया है। किसानों को चिंता करने की जरूरत नहीं है। सरकार किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है। नायब सैनी ने शनिवार को करनाल में अपने प्रवास के दौरान पत्रकारों से बातचीत में यह बात कही। उन्होंने लोकसभा चुनाव और विधानसभा उपचुनाव को लेकर कहा कि करनाल से दो कमल के फूल खिलेंगे, जिनमें से एक फूल मनोहर लाल दिल्ली लेकर जाएंगे और एक कमल का फूल चंडीगढ़ जाएगा।
उन्होंने कहा कि जनता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गारंटी पर पूरा विश्वास करती है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही देश के प्रधानमंत्री बनेंगे। नायब सैनी ने कहा कि पिछले 10 वर्षों से जिस तरह देश और प्रदेश का विकास हो रहा है, वह जारी रहेगा। भाजपा सरकार में विकास की गति नहीं रुकेगी। उन्होंने कहा कि जिस तरह मनोहर लाल ने मुख्यमंत्री रहते हुए प्रदेश की सेवा की, अब सांसद बनकर भी वे जनता की सेवा करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस चुनाव में कहीं भी दिखाई नहीं दे रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जनता का पूरा समर्थन है। तीसरी बार भी मोदी जी को ही प्रधानमंत्री बनेंगे।

शीघ्र मिलेगा फसलों के नुकसान का मुआवजा

इन्द्री, 20 अप्रैल (निस)
इन्द्री में शुक्रवार को आए आंधी-तूफान और ओलावृष्टि से तबाह हुई फसलों से जहां किसानों में मायूसी छायी हुई है। वहीं इससे सरकारी स्तर पर भी गहमागहमी बढ़ गई है। उपमंडल के गांव धमनहेरी में मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी ने खेतों में जाकर ओलावृष्टि और बारिश से हुए नुकसान का जायजा लिया। इस मौके पर उनके साथ हल्का विधायक रामकुमार कश्यप व अन्य भाजपा नेता भी साथ थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें ओलावृष्टि की सूचना तो कल ही मिल गई थी और तभी सभी अधिकारियों को दिशा निर्देश दे दिए गए थे। उन्होंने बताया कि गांव में इसको लेकर सम्बंधित अधिकारियों की ड्यूटी लगा दी गई है। पत्रकारों से बात करते हुए नायब सिंह सैनी ने कहा कि ओलावृष्टि थोड़े से क्षेत्र में हुई है। इसलिए पटवारियों को गांव में भेज कर गिरदावरी कराई जा रही है। उन्होंने किसानों से अनुरोध किया कि वह ओलावृष्टि से होने वाले नुकसान को क्षतिपूर्ति पोर्टल पर पंजीकृत करें और गिरदावरी पूरी होने के बाद किसानों को शीघ्र मुआवजा मिलना शुरू हो जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा आज मशीनों का युग है जिस कारण कंबाइन से गेहूं जल्दी कट जाता है। दो माह तक चलने वाला सीजन 15 दिन में ही सिमट गया है। इसलिए मंडियों पर भी अचानक दबाव बढ़ जाता है। लेकिन सरकार ने इसके लिए पर्याप्त व्यवस्था की है, किसी भी किसान को किसी भी तरीके की दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। इस मौके पर जिलाध्यक्ष योगेंद्र राणा, मंडल अध्यक्ष अमनदीप सिंह विर्क, मेहर सिंह कलामपुरा, वरिष्ठ भाजपा नेता सुनील कांबोज खेड़ा, धर्मपाल शांडिल्य, रघुबीर बतान मौजूद रहे।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×