For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

किसानों और पुलिस के बीच नोंक झोंक, एसडीएम पहुंचे मौके पर

07:09 AM Feb 08, 2024 IST
किसानों और पुलिस के बीच नोंक झोंक  एसडीएम पहुंचे मौके पर
तावडू में बुधवार को किसानों की पुलिस से झड़प के बाद नारे लगाते मौके पर मौजूद लोग। -हप्र
Advertisement

गुरुग्राम, 7 फरवरी (हप्र)
मुआवजे की मांग को लेकर तावडू खंड के सहसोला मे धरना दे रहे किसानों और पुलिस के बीच नोक-झोंक हो गई। किसानों का आरोप है कि धरनास्थल पर मौजूद महिलाओं व किसानों से पुलिस ने जबरन धक्का मुक्की और गाली गलौज की।
ज्यादा नोक-झोंक होने लगी तो बड़ी संख्या में ग्रामीण एकत्रित हो गए, वहीं प्रशासन को भी सूचना मिली। ग्रामीणों ने रेलवे और प्रशासन के विरुद्ध नारेबाजी शुरू कर दी। करीब आधे घंटे बाद बाद ही तावड़ू के एसडीएम संजीव कुमार मौके पर पहुंचे। उन्होंने धरना दे रहे किसानों से पूछताछ की। इस दौरान ग्रामीणों ने सीधे तौर पर कहा कि पुलिस द्वारा महिला और किसानों के साथ गाली गलौज, धक्का-मुक्की की गई है।
एसडीएम के सामने ही किसानों ने फिर जमकर नारेबाजी शुरू कर दी। इस दौरान निर्माण कंपनी के कर्मचारी और अधिकारियों को भी मौके पर बुलाया गया, जिनके समक्ष एसडीएम ने किसानों से काम नहीं रोकने का आह्वान किया। लेकिन किसान मुआवजे की जिद पर अड़े रहे। उसी दौरान किसान नेता आजाद भी पहुंच गए और उन्होंने भी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए समस्याओं और पक्ष अधिकारियों के समक्ष रखा। करीब तीन घंटे तक किसानों और प्रशासन के बीच गहमा गहमी बनी रही। फिर किसानों ने एक दिन का समय देते हुए शांतिपूर्वक धरने की बात कही। जिस पर एसडीएम ने सहमति दे दी।
किसान नेता आजाद का कहना है कि वह एसडीएम के सकारात्मक रवैये से संतुष्ट है। एक दिन के लिए काम को बाधित नहीं करेंगे, लेकिन शांतिपूर्ण तरीके से धरना जारी रहेगा। यदि प्रशासन की ओर से सकारात्मक रुख नहीं रहा तो रेलवे निर्माण को फिर से बाधित किया जाएगा। वहीं उन्होंने पुलिस पर सवाल उठाते हुए कहा कि शांतिपूर्वक धरना दे रहे किसानों और महिलाओं के साथ पुलिस का व्यवहार गलत था, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

प्रशासन गंभीर, जल्द निकालेंगे समाधान : एसडीएम

एसडीएम ने कहा कि किसानों की मांगों को लेकर प्रशासन गंभीर है। प्रशासन की ओर से उच्च अधिकारियों को अवगत कराया है। जल्द कोई समाधान होगा।

Advertisement

आरोपी निराधार : थाना प्रभारी

नवनियुक्त थाना प्रभारी जितेंद्र ने कहा कि धरना दे रहे किसानों से कुछ गतिरोध जरूर हुआ था, लेकिन पुलिस की ओर से धक्का-मुक्की व गाली-गलौज की बातें निराधार हैं। पुलिस ने कानून के दायरे में स्थिति को नियंत्रण किया था।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×