For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

नाम बड़े और दर्शन छोटे

07:36 AM Jul 07, 2024 IST
नाम बड़े और दर्शन छोटे
फरीदाबाद के सबसे बड़े सिविल अस्पताल बीके की ओपीड़ी में उमड़ी भीड। - हप्र
Advertisement

राजेश शर्मा/हप्र
फरीदाबाद, 6 जुलाई
औद्योगिक नगरी फरीदाबाद के बीके सिविल अस्पताल में आजकल सुविधाओं का बड़ा टोटा है। डाॅक्टरों की कमी के चलते यह अस्पताल मात्र ओपीडी तक ही सिमट गया है। दवाइयों की भी यहां भारी कमी है। डाॅक्टर के लिखने के बावजूद मरीजों को दवाइयां नहीं मिल पातीं।
यहां प्रतिदिन ढाई से साढ़े तीन हजार तक मरीज ओपीडी में आते हैं। कुल 200 बिस्तरों के इस अस्पताल में यूं तो 55 चिकित्सकों के पद स्वीकृत हैं, कागजों में तैनाती 41 की है, हालांकि 11 डॉक्टर अक्सर अवकाश पर रहते हैं, इससे हकीकत में 30 ही डॉक्टर कार्यरत मिलते हैं।
लैब टैक्नीशियन भी यहां आधे हैं। कहा तो यह जाता है कि जिले के इस सबसे बड़े अस्पताल में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए कई योजनाएं तैयार की जा रही हैं, लेकिन फिलहाल तो लोगों का सामना परेशानियों से ही हो रहा है। स्वास्थ्य मुख्यालय की तरफ से हर बार चिकित्सकों व स्टाफ की कमी को जल्द ही पूरा करने का आश्वासन मिला था, लेकिन ऐसा हुआ नहीं।
अस्पताल में अभी रेडियोलॉजिस्ट भी नहीं है। ईएनटी चिकित्सक कॉन्ट्रेक्ट पर हैं। दो डीएमएस में से एक ही कार्यरत हैं। एसएमओ की 5 पोस्ट पूरी तरह से भरी हैं। डेंटल सर्जन, रेडियोग्राफरों समेत फार्मासिस्टों की सभी पोस्टें भरी हुई है। प्रयोगशाला में जहां 14 लैब टैक्नीशियंस (एलटी) की पोस्ट है, वहां मात्र 5 एलटी मौजूद हैं। नर्सिंग ऑफिसरों की संख्या 90 है, जबकि अस्पताल में 84 तैनात हैं। सीनियर नर्सिंग ऑफिसरों की संख्या 10 होनी चाहिए, लेकिन 4 ही है।

समय पर नहीं हो पा रहे अल्ट्रासाउंड अस्पताल में एक भी रेडियोलॉजिस्ट नहीं है, जबकि दो पोस्ट स्वीकृत हैं। इसके चलते अल्ट्रासाउंड नहीं हो पाता। डिप्टी सीएमओ डॉ. सुशील कुमार अहलावत अल्ट्रासाउंड करते हैं, लेकिन उन्हें कभी-कभी कोर्ट भी जाना पड़ता है, तो कभी किसी बैठक में। ऐसे में कई मरीजों को बाहर से अल्ट्रासाउंड कराना पड़ता है। गर्भवती महिलाओं को सबसे अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि बाहर के केंद्र 1000 से 1500 रुपए प्रति अल्ट्रासाउंड लेते हैं।

Advertisement

उच्चाधिकारियों को लिखा गया है

बीके सिविल अस्पताल की पीएमओ डॉ. सविता यादव का कहना है कि डॉक्टर व स्टाफ नर्सों और अन्य स्टाफ की संख्या बढ़ाने के लिए उच्च स्वास्थ्य अधिकारी को पत्र लिखा गया है। उनका कहना है कि रिक्त पदों को भरने की गुहार लगायी गयी है। उन्होंने उम्मीद जताई कि पदों को जल्दी भरा जाएगा।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×