For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

साइकिल और...

06:31 AM Jan 14, 2024 IST
साइकिल और
Advertisement

हेमधर शर्मा

चलाता मैं साइकिल
बनता हूं दीन-हीन
लोगों की नजरों में
झेलता हूं अपनों के
बढ़ते दबाव को
होते वे शर्मिंदा
गिरता ही जाता है
स्टेटस मुहल्ले में।

Advertisement

मेरा भी कभी-कभी
मन डगमगाता है
लगता हूं सोचने
कि ले लूं मोटरसाइकिल
आफिस में इज्जत बढ़ जायेगी
मानेंगे गरीब नहीं
लोग आसपास के
घण्टों का समय और
शक्ति भी बच जायेगी
लगती आने-जाने में जो
तीस किलोमीटर दूर।

लेकिन फिर लगता है
बिगड़ता ही जाता है
दिन-दिन जो पर्यावरण
मैं भी हुआ शामिल यदि
बढ़ाने में प्रदूषण तो
अपनी ही नजरों में
कैसे उठ पाऊंगा
कविता फिर कैसे लिख पाऊंगा?

Advertisement

इसीलिये झेलता हूं
बढ़ते दबाव को
मांगता हूं ईश्वर से
शक्ति देना टिकने की
डिगने नहीं देना मेरे
मन के विश्वास को
कि एक दिन कभी न कभी
मेरी यह मेहनत रंग लायेगी
दुनिया मेरे काफिले में
शामिल हो जायेगी।

अपने इसी सपने के बल पर मैं
चलाता हूं साइकिल
टालता ही जाता हूं
लेना मोटरसाइकिल।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×