For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

सरकारी स्कूलों में मिड डे मील में मिलेंगे बेहतर पकवान

07:31 AM May 16, 2024 IST
सरकारी स्कूलों में मिड डे मील में मिलेंगे बेहतर पकवान
फाइल फोटो
Advertisement

जसमेर मलिक/हप्र
जींद,15 मई
सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को मिड डे मील के तहत अब बेहतर पकवान मिलेंगे। इसके लिए विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। मिड डे मील के तहत तैयार होने वाले पकवानों के लिए वर्करों को शिक्षा विभाग 4 से 6 जून तक विशेष प्रशिक्षण देगा। इसके लिए सभी कुक और उनके सहायकों को प्रशिक्षण में शामिल होने के लिए निर्देश जारी किए हैं। कुक और सहायक को बेहतर पकवान बनाने के लिए शिक्षा विभाग की तरफ से प्रशिक्षण का शेड्यूल तैयार किया गया है। इस शेड्यूल के अनुसार प्रशिक्षण कार्य 4 जून से शुरू होकर 6 जून तक चलेगा। इसमें जिले भर के सभी 719 स्कूलों के कुक और हेल्पर शामिल होंगे। प्रशिक्षण के दौरान इन कर्मियों को पकवान का व्यावहारिक ज्ञान दिया जाएगा। इन्हें बताया जाएगा की भोजन को कितने डिग्री तक पकाना है। कर्मियों को प्रशिक्षण खंड स्तर पर ही मिलेगा। इन कर्मियों को खाद्य सामग्री को सही ढंग से रखने, ताकि वह निर्धारित समय से पहले खराब नहीं हो, बारे तकनीकी जानकारी दी जाएगी। बर्तनों को साफ करने और उनको व्यवस्थित तरीके से रसोई में रखने, कितने तापमान पर कौन सा खाना पकाना है, खाने को कितने समय पहले तैयार कर बच्चों को खिलाया जाए के बारे में बताया जाएगा। इसके अलावा बच्चों को स्वास्थ्य रखने के लिए मेन्यू के अनुसार भोजन तैयार करने के बारे में जानकारी दी जाएगी।
दो सत्रों में मिलेगा प्रशिक्षण : कुक और हेल्पर को पौष्टिक भोजन तैयार करने का प्रशिक्षण तीन दिन तक दो अलग-अलग सत्रों में दिया जाएगा। प्रथम सत्र मेंं पौष्टिक आहार बनाने का प्रशिक्षण मिलेगा, तो दूसरे सत्र में खाना पकाने, रखरखाव, खाना पकाने की सामग्री और उसके रखरखाव के साथ रसोई, खाना परोसने के बर्तनों को सही ढंग से लगाने की जानकारी दी जाएगी। प्रशिक्षण के लिए मौलिक शिक्षा विभाग की ओर से शेड्यूल दिया गया है।

'' मिड डे मील के तहत कुक व हेल्पर को तीन दिन का प्रशिक्षण पौष्टिक भोजन को तैयार करने, उसके रखरखाव के लिए दिया जाएगा। प्रशिक्षण का शेड्यूल 4 से 6 जून का निर्धारित किया गया है। इस प्रशिक्षण शिविर से विद्यार्थियों को मिलने वाले खाने की गुणवत्ता में सुधार लाने का काम करेगी। ''
-डॉ. सुभाष वर्मा, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी, जींद

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×