For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

प्रशंसा-निंदा से संतुलन

06:59 AM Mar 02, 2024 IST
प्रशंसा निंदा से संतुलन
Advertisement

कश्मीर की संत कवि लल्लेश्वरी एक बार भजन करती हुई मंदिर जा रही थी कि बच्चे उनके पीछे पड़ गए और उन्हें चिढ़ाने लगे। इस पर एक वस्त्र-व्यापारी ने उन्हें डांटा और भगा दिया। तब लल्लेश्वरी ने व्यापारी से एक कपड़ा मांगा और उसके दो बराबर टुकड़े करने को कहा। व्यापारी द्वारा वैसा करने पर उन टुकड़ों को अपने दोनों कंधों पर डालकर वे आगे बढ़ी। रास्ते में जब कोई उनका अभिवादन करता या हंसी उड़ाता, तो वे उन टुकड़ों में एक-एक गांठ बांधती। मंदिर से लौटने पर उन्होंने वे टुकड़े व्यापारी को वापस करते हुए उनका वजन करने को कहा। वजन करने पर उनका वजन बराबर मिला। तब लल्लेश्वरी बोली, ‘प्रशंसा या निंदा का हमें बिलकुल ख्याल नहीं करना चाहिए, क्योंकि ये दोनों एक-दूसरे को संतुलित करते रहते हैं। इसलिए हमें सबको समान दृष्टि से देखना चाहिए और समान भाव से ग्रहण करना चाहिए।’

प्रस्तुति : देवेन्द्रराज सुथार

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×