For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

कांग्रेस के 6 विधायक अयोग्य करार

07:05 AM Mar 01, 2024 IST
कांग्रेस के 6 विधायक अयोग्य करार
शिमला में बृहस्पतिवार को पत्रकार वार्ता में मौजूद हिमाचल प्रदेश के सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू। साथ हैं भूपेंद्र सिंह हुड्डा, डीके शिवकुमार, प्रतिभा सिंह, विक्रमादित्य सिंह व अन्य। - प्रेट्र
Advertisement

ज्ञान ठाकुर/हप्र
शिमला, 29 फरवरी
हिमाचल प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने बृहस्पतिवार को पार्टी व्िहप के उल्लंघन में कांग्रेस के छह बागी िवधायकों की विधानसभा सदस्यता खत्म कर दी। इन विधायकों ने मंगलवार को राज्यसभा चुनाव में भाजपा के उम्मीदवार हर्ष महाजन के पक्ष में ‘क्रॉस वोटिंग’ की थी और बाद में वे विधानसभा में बजट पर मतदान के समय अनुपस्थित रहे थे। जिन विधायकों की सदस्यता पर स्पीकर ने ‘क्रॉस’ लगाया, वे हैं- सुधीर शर्मा, राजेंद्र राणा, इंद्रदत्त लखनपाल, रवि ठाकुर, देविंद्र भुट्टो और चैतन्य शर्मा। हिमाचल विधानसभा के इतिहास में अपने किसी विधायक को अयोग्य करार देने का यह पहला फैसला है। विधानसभा अध्यक्ष ने यह फैसला ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष के रूप में सुनाया। विधानसभा अध्यक्ष को संविधान के शेड्यूल 10 के तहत ये शक्तियां प्राप्त हैं।
विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि उन्हें संसदीय कार्य मंत्री हर्षवर्धन चौहान ने छह विधायकों के खिलाफ दलबदल विरोधी कानून के तहत शिकायत की थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने कटौती प्रस्तावों और वित्त विधेयक के पारित करने को लेकर व्हिप जारी किया था। पठानिया ने यह भी कहा कि बागी विधायकों के अधिवक्ता सत्यपाल जैन ने विधायकों की ओर से पक्ष रखने के लिए कुछ और समय मांगा था, लेकिन स्पष्ट साक्ष्य होते हुए फैसले में देर करने का कोई औचित्य  नहीं था।

विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप पठानिया। -प्रेट्र

स्पीकर ने कहा, ‘इस तरह के मामलों में तुरंत फैसला देना जरूरी है ताकि लोकतंत्र की मर्यादा बनी रहे और आया राम-गया राम की राजनीति पर रोक लग सके।’ उन्होंने कहा कि वास्तव में दलबदल विरोधी कानून का मकसद राजनीति में चुने हुए लोगों की खरीद-फरोख्त रोकना है ताकि स्वच्छ राजनीति को बढ़ावा दिया जा सके। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के बागी विधायकों के मामले में व्हिप की उल्लंघना हुई है। राज्यसभा चुनाव में ‘क्रॉस वोटिंग’ पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी पार्टी के चुने हुए विधायक द्वारा दूसरी विचारधारा के पक्ष में वोट डालना अनैतिक है।

Advertisement

बागियों के लिए खुले हैं दरवाजे : सुक्खू

मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि अयोग्य घोषित किए गए सभी छह विधायक यदि वापस आना चाहते हैं तो उनके लिए पार्टी के दरवाजे खुले हैं। सुक्खू ने कहा कि बागी विधायक हमारे भाई हैं और उनकी गलती को माफ किया जा सकता है। उन्होंने भाजपा पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगाया।

शिकायतों का समाधान हो जाता तो टाला जा सकता था फैसला : प्रतिभा

शिमला (एजेंसी) : कांग्रेस की हिमाचल प्रदेश इकाई की प्रमुख प्रतिभा सिंह ने कहा कि अगर बागी विधायकों की शिकायतों का समय पर समाधान कर दिया गया होता तो उन्हें अयोग्य ठहराए जाने के फैसले को टाला जा सकता था। उन्होंने कहा कि असंतुष्ट विधायक पिछले एक साल से नाराजगी जाहिर कर रहे थे, लेकिन उनकी समस्याओं का समाधान निकालने के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया।

Advertisement

सुक्खू बने रहेंगे सीएम, 6 सदस्यीय समिति गठित : हुड्डा

कांग्रेस हाईकमान द्वारा नियुक्त पर्यवेक्षकों में से एक हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि सुक्खू सीएम बने रहेंगे। हुड्डा ने कहा कि सरकार और संगठन के बीच तालमेल बनाने के लिए छह सदस्यीय समन्वय समिति में मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू, उप मुख्यमंत्री मुकेश अग्निहोत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रतिभा सिंह इसके सदस्य होंगे। कमेटी के तीन सदस्यों का फैसला पार्टी हाईकमान करेगी।

सीएम ने ली है सिंघवी की हार की जिम्मेदारी : डीके

कांग्रेस के केंद्रीय पर्यवेक्षक डीके शिवकुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने राज्यसभा चुनाव में अभिषेक मनु सिंघवी की हार की जिम्मेदारी ली है और हर विधायक से व्यक्तिगत रूप से बात करने के बाद मतभेद दूर कर लिए गए हैं।

दबाव की राजनीति बर्दाश्त नहीं, फैसले को चुनौती देंगे : राजेंद्र राणा

हमीरपुर (कपिल बस्सी) : अयोग्य ठहराए गए कांग्रेस विधायक राजेंद्र राणा ने मुख्यमंत्री पर तानाशाही का आरोप लगाते हुए कहा कि वह दबाव की राजनीति को बर्दाश्त नहीं करेंगे। राज्यसभा चुनाव का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हर्ष महाजन को इसलिए वोट दिया क्योंकि हिमाचल से राज्य का ही सदस्य चुना जाना चाहिए। निलंबन की कार्रवाई को दबाव की रणनीति बताते हुए उन्होंने कहा कि वह फैसले को कोर्ट में चुनौती देंगे। राणा ने यह भी कहा कि भाजपा के शीर्ष नेता संपर्क में हैं। एक-दो दिन में निर्णय लिया जाएगा।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
×