For the best experience, open
https://m.dainiktribuneonline.com
on your mobile browser.

मंदिर में आरएएफ जवानों के ‘ठहरने’ का मामला गरमाया, कमेटी ने दी प्रदर्शन की चेतावनी

10:46 AM Apr 04, 2024 IST
मंदिर में आरएएफ जवानों के ‘ठहरने’ का मामला गरमाया  कमेटी ने दी प्रदर्शन की चेतावनी
डबवाली में बुधवार को ड्यूटी के बाद मंदिर परिसर के कमरों में लौटते आरएएफ जवान। -हप्र
Advertisement

डबवाली, 3 अप्रैल (निस)
बंद रास्ते खुलने के बाद क्षेत्र में तैनात रेपिड एक्शन फ़ोर्स (आरएएफ) की ‘ठहरदारी’ का मामला गरमा गया है। श्री वैष्णो माता मंदिर प्रबंधक कमेटी ने मन्दिर व धर्मशाला परिसर में ठहरे हुए लगभग 100 रेपिड एक्शन फ़ोर्स कर्मियों के ठहराव के प्रति सख्त स्टैंड लिया है। कमेटी ने बैठक करके परिसर को आरएएफ से खाली न करवाने पर प्रशासन को प्रदर्शन की चेतावनी दे डाली। कमेटी ने सुरक्षा बलों के रुकने से मंदिर प्रबंधन की आर्थिक स्थिति गड़बड़ाने का दुखड़ा सुनाया है। परिसर में कमरों की बुकिंग रद्द व बंद होने से 90 प्रतिशत आमदनी बंद हो गयी है। बता दें कि 8 फरवरी से मन्दिर-कम-धर्मशाला परिसर के सभी 12 कमरे व छोटे हॉल में आरएएफ कर्मी रुके हुए हैं। जिन्हें किसानों के दिल्ली कूच के तहत तैनात किया गया था।
उल्लेखनीय है कि 7 अप्रैल को श्री वैष्णों माता मन्दिर का स्थापना दिवस हैं, जिसे बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। वहीं 9 अप्रैल से मुख्य पर्व नवरात्र शुरू होने हैं। ऐसे में मन्दिर परिसर में आगामी दो सप्ताह धार्मिक आस्था से सरोबार रहने वाले हैं।
मन्दिर कमेटी के अध्यक्ष तरसेम गर्ग व उपाध्यक्ष वरिन्द्र गुप्ता ‘डबली’ ने बताया कि प्रशासन ने सिर्फ 3 दिनों के लिए आरएएफ के कर्मी यहां ठहराए थे, जो अब तक यहां रुके हुए हैं। उनके ठहराव से मन्दिर कमेटी को बिजली बिल सहित करीब 3 लाख रूपये का आर्थिक नुकसान हुआ है, जबकि स्थापना दिवस की मन्दिर में व्यवस्थाएं रुकी हुई हैं। आरएएफ के बड़े-बड़े ट्रक भी मन्दिर के आगे जाम का कारण बन रहे हैं।
अध्यक्ष तरसेम गर्ग ने बताया कि उन्होंने गत 23 मार्च को उक्त मामले में एसडीएम डबवाली को लिखित पत्र दिया था, कोई सुनवाई नहीं हुई। उन्होंने सरकार से खर्चे की मांग की।
देर शाम थाना सिटी प्रभारी शैलेन्द्र कुमार व आरएएफ इंस्पेक्टर हुकमाराम ने मंदिर कमेटी से बैठक की व आरएएफ़ कर्मियों को 24 घंटों में राजीव फाउंडेशन कम्युनिटी हॉल में शिफ्ट करने का विश्वास दिलाया।
एसडीएम ने क्या कहा
उक्त मामले ने एसडीएम अभय सिंह जांगड़ा का कहना था कि न ही उन्होंने किसी को बोला था और उन्हें न ही आइडिया है। शायद कई दिन पहले कुछ लोग मिले थे, अभी ध्यान में नहीं है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
×